scorecardresearch
 

नोएडाः 105 साल की बुजुर्ग ने कोरोना को दी मात, 7 दिन वेंटिलेटर पर रहीं

कोरोना के लगातार बढ़ते केस के बीच एक 105 साल की बुजुर्ग ने कोरोना को हरा दिया है. अलजाइमर जैसी बीमारी से पीड़ित 7 दिन से वेंटिलेटर पर रहने वाली बुजुर्ग महिला स्वस्थ होकर अपने घर पहुंच चुकी है.

नोएडा में कोरोना से ठीक होकर अस्पताल से डिस्चार्ज हुई 105 साल की महिला (फोटो-भूपेंद्र) नोएडा में कोरोना से ठीक होकर अस्पताल से डिस्चार्ज हुई 105 साल की महिला (फोटो-भूपेंद्र)

  • 7 दिन से वेंटिलेटर पर थीं बुजुर्ग महिला
  • अलजाइमर जैसी बीमारी से भी ग्रसित थीं

ग्रेटर नोएडा स्थित शारदा अस्पताल के डॉक्टरों ने 7 दिन से वेंटिलेटर पर जिंदगी और मौत की जंग लड़ने वाली कोरोना संक्रमित 105 साल की बुजुर्ग अफगानिस्तानी महिला राबिया अहमद को नया जीवन दिया है. डॉक्टरों की विशेष निगरानी और देखभाल की वजह से वह अब पूरी तरह ठीक हैं.

शारदा अस्पताल के मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉक्टर आशुतोष निरंजन ने बताया कि नोएडा के निजी अस्पताल में जांच के बाद कोरोना संक्रमित अफगानिस्तान की रहने वाली 105 साल की राबिया अहमद को 16 जुलाई को शारदा में एडमिट कराया गया. जब मरीज को लाया गया उस समय उनको बुखार, सांस लेने में गंभीर तकलीफ के अलावा निमोनिया की शिकायत थी.

राबिया अलजाइमर से भी ग्रसित थीं. जब उनको यहां भर्ती किया गया तो वह किसी रिश्तेदार को पहचान नहीं पा रही थीं.

मरीज के एक्यूट रिसपाइरेटरी ड्रिसट्रेस सिंड्रोम (एआरडीएस) की चपेट में आने पर तत्काल गंभीर अवस्था में वेंटीलेटर पर शिफ्ट किया गया.

आईसीएमआर और शारदा अस्पताल के प्रोटोकाल के तहत इलाज शुरू किया गया. 7 दिनों तक वेंटिलेटर सपोर्ट के बाद उनकी हालत में सुधार आने लगा. डॉक्टरों और पैरा मेडिकल टीम के अथक प्रयास का नतीजा रहा कि मरीज 15 दिन बाद ठीक होकर अपने घर चली गईं.

इसे भी पढ़ें --- अनलॉक-3 की गाइडलाइंस जारी, नाइट कर्फ्यू खत्म-जिम खोलने की इजाजत

घर जाने के समय राबिया ने अस्पताल के स्टाफ को धन्यवाद देते हुए कहा कि पूरी टीम ने उनकी प्रॉपर देखभाल की. इससे उनमें काफी तेजी से सुधार हुआ. यहां के डॉक्टर और स्टाफ की बदौलत वह इतने कम समय में स्वस्थ हो सकीं.

इसे भी पढ़ें --- दिल्ली में कोरोना पर कंट्रोल, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन बोले- क्रेडिट कोई भी ले ले

अस्पताल के ज्वाइंट रजिस्ट्रार डॉक्टर अजीत कुमार ने बताया कि यह एक भरोसे की जीत है. महिला को लेने आए पोते अहमद फवाद ने कहा कि बकरीद से पहले अस्पताल ने उन्हें ताउम्र न भूलने वाला गिफ्ट दिया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें