scorecardresearch
 

हरियाणा में 15.40 लाख बच्चों को लगेगी कोरोना वैक्सीन, दोनों डोज वालों को ही होटल में मिलेगी एंट्री

प्रदेश में 98 प्रतिशत लोगों को पहली डोज और 70 प्रतिशत को दूसरी डोज लगाई जा चुकी है. सूबे में वैक्सीनेशन के लिए 10 लाख कोवैक्सीन की और जरूरत है. जबकि 15.40 लाख बच्चों को वैक्सीन लगनी है.

X
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 84 सरकारी अस्पतालों में पीएस प्लांट चालू
  • प्रदेश में 10 लाख कोवैक्सीन की और जरूरत

हरियाणा में कोरोना संक्रमण की भयावहता देखते हुए स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि प्रदेश में 15 से 18 साल के 15.40 लाख बच्चों को सोमवार यानी 3 जनवरी 2022 से कोरोना वैक्सीन लगाने का काम शुरू किया जाएगा. इसकी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. उन्होंने कहा कि अब तक 84 सरकारी अस्पतालों में पीएसए (PSA) प्लांट लगकर चालू हो चुके हैं. इसी तरह 54 प्राइवेट अस्पताल में भी प्लांट लग चुके हैं.

स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने रविवार को केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मंडाविया की अध्यक्षता में कोविड समीक्षा और वैक्सीनेशन को लेकर हुई वर्चुअल मीटिंग में कहा कि प्रदेश में 98 प्रतिशत लोगों को पहली डोज और 70 प्रतिशत को दूसरी डोज लगाई जा चुकी है. प्रदेश को वैक्सीनेशन के लिए 10 लाख कोवैक्सीन की और जरूरत है. जबकि 15.40 लाख बच्चों को वैक्सीन लगनी है.

50% कैपेसिटी के साथ खुलेंगे होटल्स, रेस्टोरेंट्स
इसके साथ ही सूबे में कोरोना को लेकर पाबंदियां बढ़ाने का भी फैसला लिया गया है. लिहाजा हरियाणा की राजधानी चंडीगढ़ में अब सभी होटल्स, रेस्टोरेंट्स, कॉफी शॉप, ईटिंग प्लेसेस, मैरिज गार्डन और बैंकेट हॉल 50% कैपेसिटी के साथ ही खुलेंगे. इतना ही नहीं जिन लोगों ने दोनों वैक्सीन लगवाई होंगी. सिर्फ उन्हें ही एंट्री मिलेगी.

प्रदेश में जीनोम सीक्वेंसिंग लैब तैयार
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी से लड़ने के लिए हमारे पास अभी सारी दवाएं उपलब्ध हैं. पर्याप्त मात्रा में वेंटीलेटर भी हैं. प्रदेश में केवल एक जिले को छोड़कर अन्य सभी जिलों में RT-PCR लैब लगा दी गई हैं. प्रदेश में जिनोम सिक्वेंसिंग लैब दो दिन पहले ही चालू हुई है. इसमें टेस्टिंग शुरू कर दी गई है. मीटिंग में अनिल विज ने कहा कि शेष अस्पतालों में भी जल्द पीएसए प्लांट लगाने का प्रयास किया जा रहा है ताकि ऑक्सीजन के मामले में हरियाणा पूरी तरह से आत्मनिर्भर बन सके.

डाक और ई-मेल के माध्यम से सुनवाई

कोरोना के कारण गृह मंत्री अनिल विज अपने आवास पर जनसमस्याओं को नहीं सुनेंगे. वह डाक और ई-मेल से जनसमस्याओं का निवारण करेंगे. लोग ई-मेल आईडी anilvijcomplaints@gmail.com पर और डाक के माध्यम से अपनी समस्या गृह मंत्री अनिल विज तक पहुंचा सकते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें