scorecardresearch
 

बिहार में कोरोना का वार, आंकड़ा 20 हजार के पार, आज से फिर लॉकडाउन

बिहार में कोरोना के आंकड़े 20 हजार के पार पहुंच गए हैं. मामले इस कदर बढ़ रहे हैं कि नीतीश सरकार को पूरे सूबे में 15 दिनों के लिए फिर से लॉकडाउन लगाना पड़ा है.

बच्चे का कराया जा रहा कोरोना टेस्ट (फोटो-PTI) बच्चे का कराया जा रहा कोरोना टेस्ट (फोटो-PTI)

  • नीतीश सरकार ने किया अच्छी रिकवरी रेट का दावा
  • 31 जुलाई तक पूरे प्रदेश में लागू हुआ लॉकडाउन

बिहार में कोरोना का कहर लगातार बढ़ रहा है. आंकड़े 20 हजार के पार पहुंच गए हैं. सरकार अच्छी रिकवरी रेट का दावा कर रही है, लेकिन आज से पूरे सूबे में फिर 15 दिनों के लॉकडाउन का ऐलान किया गया है.

बिहार में बहार नहीं बल्कि कोरोना का वार है. मामले इस कदर बढ़ रहे हैं कि नीतीश सरकार को पूरे सूबे में 15 दिनों के लिए फिर से लॉकडाउन लगाना पड़ा है. सबसे पहले बिहार में हालात की गंभीरता को समझने के लिए पिछले पांच दिनों के आंकड़े पर नजर डालते हैं. 11 जुलाई को 631 नए मरीज सामने आए और कुल मरीजों की संख्या थी 14575.

वैक्सीन को लेकर ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से आ सकती है अच्छी खबर

12 जुलाई को नए 798 नए मरीजों के साथ कुल संख्या 15373 हो गई. 13 जुलाई को 1269 नए मामले सामने आए और कुल आंकड़ा 16642 पर पहुंच गया. 14 जुलाई को 1317 नए मामले सामने आए और कुल आंकड़ा 17 959 पर पहुंचा. 15 जुलाई को 1325 नए मामले सामने आए और कुल आंकड़ा 19284 पर पहुंचा.

कोरोना की बढ़ती रफ्तार के बीच सूबे के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे दावा कर रहे हैं कि केस जरूर बढ़े हैं, लेकिन चिंता की बात नहीं है. क्योंकि राज्य में कोरोना मरीजों के ठीक होने के दर 70 फीसदी से ज्यादा है.

कोविड सेंटर बने दिल्ली के पहले बैंक्वेट हॉल में कोरोना मरीजों की संख्या हुई जीरो

कोरोना के चढ़ते ग्राफ खतरे को देखते हुए बिहार में सरकार ने 31 जुलाई तक लॉकडाउन का ऐलान किया है. इस दौरान इमरजेंसी सेवाओं के अलावा बाकी चीजों खुलने पर पाबंदी रहेगी. लॉकडाउन का सख्ती से पालन करवाने की तैयारी पूरी है। जो भी उल्लंघन करता पाया जाएगा, उसके खिलाफ कड़ी कानूनी कारवाई की जाएगी.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

बिहार में कुदरत की दोहरी मार है. एक तरफ बाढ़ का कोहराम है तो दूसरी ओर कोरोना का वार. सुपौल में भारी बारिश और बाढ़ के कारण कोरोना केयर सेंटर का हाल बेहाल हो गया है. ऐसा ही हाल उत्तर बिहार के ज्यादातर जगहों का है. देखना है कि सुशासन बाबू इन चुनौतियों से कैसे निपटते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें