scorecardresearch
 

कोरोना: ब्रिटेन के फैसले पर भारत का सख्त रुख, UK से आने पर 10 दिन होना होगा क्वारंटीन

4 अक्टूबर से सभी नागरिकों को भारत पहुंचने पर अपना वैक्सीनेशन रिपोर्ट तो बताना ही होगा. इसके साथ कुछ और महत्वपूर्ण रेगुलेशन भी जारी किए गए हैं. यूके से रवाना होने से 72 घंटे पहले तक की  RT-PRC रिपोर्ट लेकर चलना होगा.

ब्रिटेन की सख्ती पर भारत का पलटवार (सांकेतिक फोटो) ब्रिटेन की सख्ती पर भारत का पलटवार (सांकेतिक फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • यूके नागरिकों के लिए नए यात्रा नियम जारी
  • ब्रिटेन की सख्ती के जवाब में भारत ने दिखाई सख्ती
  • यूके से रवाना होने से पहले और यहां पहुंचने पर करवाना होगा जांच

भारत सरकार ने जैसे को तैसा के सिद्धांत पर चलते हुए यूके नागरिकों के लिए नए यात्रा नियम जारी किए हैं. सूत्रों के हवाले से खबर मिली है कि भारत सरकार यूके नागरिकों के भारत आने को लेकर कुछ जरूरी गाइडलाइन जारी करने जा रही है. यह दिशानिर्देश 4 अक्टूबर से लागू होंगे. यह नियम सभी यूके नागरिकों के लिए या यूके से भारत आने वाले लोगों पर लागू होगा. 4 अक्टूबर से सभी नागरिकों को भारत पहुंचने पर अपना वैक्सीनेशन रिपोर्ट तो बताना ही होगा. इसके साथ कुछ और महत्वपूर्ण रेगुलेशन भी जारी किए गए हैं.

यूके से रवाना होने से 72 घंटे पहले तक की  RT-PRC रिपोर्ट लेकर चलना होगा. भारत आगमन पर भी उनका RT-PRC टेस्ट करवाना अनिवार्य होगा. यह टेस्ट भारत पहुंचने के आठ दिनों बाद की जाएगी. इसके साथ ही क्वारनटीन रहना अनिवार्य होगा. वो भी कम से कम दस दिनों के लिए. यानी भारत आगमन के बाद अगले दस दिनों तक पृथकवास में ही रहना होगा. 

अब इस बढ़ती तकरार के बीच ब्रिटिश हाई कमीशन ने अपनी प्रतिक्रिया दी है. उनकी नजरों में भारत सरकार से बातचीत जारी है. उन्होंने जोर देकर कहा है कि कई लोग भारत से यूके आ रहे हैं. 62,500 छात्रों को इस साल जून तक वीजा दिया जा चुका है. ऐसे में आगे भी ट्रैवल को आसान बनाने की पूरी कोशिश की जाएगी.

क्या है मामला?

दरअसल भारत सरकार ने यह सख्ती ब्रिटिश सरकार द्वारा भारतीय वैक्सीन को मंजूरी नहीं देने के बाद दिखाई है. हालांकि इससे पहले भारत की सख्ती के बाद ब्रिटेन ने भारत की कोरोना वैक्सीन को मंजूरी तो दी लेकिन इसके साथ ही ये भी कहा कि भारत से ब्रिटेन आने पर भारतीय नागरिकों को वैक्सीन लगाने के बावजूद भी क्वारंटीन रहना होगा.

और पढ़ें- Explainer: यूके ने कोविशील्ड को मान्यता दी लेकिन भारत के वैक्सीन सर्टिफिकेट पर गतिरोध बरकरार, जानें पूरा मामला

ब्रिटेन ने अप्रैल महीने में भारत से आने वाले यात्रियों के लिए ‘‘रेड लिस्ट’’ कोविड-19 यात्रा प्रतिबंध शुरू किया था. इन प्रतिबंधों के तहत लोगों के भारत से ब्रिटेन आने पर रोक थी और नयी दिल्ली से अपने देश लौट रहे ब्रिटिश तथा आयरिश नागरिकों के लिए होटल में दस दिन तक पृथक-वास में रहना अनिवार्य था. हालांकि बाद में जब भारत ने सख्ती दिखाई तो ब्रिटेन ने अपने यात्रा प्रतिबंधों में ढील का ऐलान करते हुए भारत को रेड से अंबर सूची में डाल दिया.

इसके तहत भारत में टीका लगवाने वाले यात्री अब अपने घर या पसंद की किसी भी जगह पर दस दिन क्वारनटीन रह सकेंगे. इसके अलावा यात्रियों को भारत से रवाना होने के तीन दिन पहले कोरोना की जांच करानी होगी. साथ ही ब्रिटेन पहुंचने पर दो टेस्ट (पहला पहुंचने के दूसरे दिन और दूसरा आठवें दिन) करवाने होंगे. अब इसी फैसले पर भारत ने पलटवार किया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें