scorecardresearch
 

AIIMS भुवनेश्वर के 250 डॉक्टर-स्टाफ कोरोना संक्रमित, कल से OPD अस्थाई रूप से बंद

AIIMS भुवनेश्वर के 250 डॉक्टर और स्टाफ कोरोना संक्रमित मिले हैं. भारी संख्या में डॉक्टरों और कर्मियों के पॉजिटिव मिलने के बाद प्रबंधन ने ओपीडी सेवा को सोमवार से बंद करने का फैसला किया है. बता दें कि पिछले 24 घंटे में ओडिशा में कोरोना के रिकार्ड 11,177 नए मामले सामने आए हैं.

X
फाइल फोटो. फाइल फोटो.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सुपरिंटेंडेंट ने कहा- इमरजेंसी सेवाएं जारी रहेंगी
  • 'ओपीडी सेवाओं को रोकना मजबूरी है'

AIIMS भुवनेश्वर के 250 डॉक्टर और स्टाफ कोरोना संक्रमित मिले हैं. भारी संख्या में डॉक्टरों और कर्मियों के पॉजिटिव मिलने के बाद प्रबंधन ने ओपीडी सेवा को सोमवार से बंद करने का फैसला किया है. बता दें कि पिछले 24 घंटे में ओडिशा में कोरोना के रिकार्ड 11,177 नए मामले सामने आए हैं. स्वास्थ्य कर्मियों और राज्य में बढ़ते कोरोना के मामलों के बीच एम्स भुवनेश्वर 17 जनवरी से सभी स्पेशल और सुपर-स्पेशियलिटी विभागों की वॉक इन ओपीडी सेवाओं को अस्थायी रूप से बंद कर देगा. एम्स भुवनेश्वर के मेडिकल सुपरिटेंडेंट प्रोफेसर डॉक्टर सचिदानंद मोहंती ने आजतक को बताया कि संस्थान के 250 से अधिक कर्मचारियों और छात्रों के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद ये निर्णय लिया गया है.
 
वैकल्पिक सर्जरी को निलंबित कर दिया गया है और सभी कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए आपातकालीन सर्जरी की जाएगी. एम्स-भुवनेश्वर के सभी विभागों को भी निर्देश दिया गया है कि जब तक जरूरी न हो मरीजों को ओपीडी में बुलाना बंद कर दें. अगर इलाज करने वाले डॉक्टर को लगता है कि मरीज की हालत गंभीर है और उसे शारीरिक रूप से देखा जाना चाहिए, तो 'टेलीमेडिसिन' या स्वास्थ्य ऐप के जरिए अपॉइंटमेंट लिया जा सकता है. एंट्री गेट पर मरीज को अपॉइंटमेंट और डबल डोज टीकाकरण प्रमाण पत्र दिखाना होगा.

डॉक्टर मोहंती ने बताया कि मेडिकल कर्मियों और छात्रों के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद हम वॉक इन ओपीडी सेवाओं को अस्थायी रूप से रोकने के लिए मजबूर हैं. उन्होंने बताया कि सर्जिकल वार्डों में सर्जरी के लिए इंतजार कर रहे सभी इनडोर रोगियों का कोरोना प्रोटोकॉल के तहत ऑपरेशन किया जाएगा. उन्होंने ये भी कहा कि कोरोना के नाम पर किसी भी इमरजेंसी केस को समय पर मेडिकल ट्रीटमेंट से वंचित नहीं किया जाएगा. 

डॉक्टर मोहंती ने ये भी बताया कि ओपीडी सेवा ऑनलाइन रजिस्टर्ड और इमरजेंसी केसेज के लिए जारी रहेगी. जिन मरीजों ने ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराया है, वे एंट्री गेट पर अपना ऑनलाइन बुकिंग नंबर दिखाकर अपने संबंधित विभाग में दिखा सकते हैं.  

ये सेवाएं रहेंगी जारी

एम्स भुवनेश्वर से जारी नोटिफिकेशन में कहा गया है कि आपातकालीन सेवा जैसे डे केयर, रेडियोथैरेपी, डायलिसिस, ट्रामा और इमरजेंसी, लाइफ सेविंग सर्जरी, टेली मेडिसिन सर्विस, आईपीडी सर्विस, कोविड वैक्सीनेशन सर्विस, पुराने रजिस्टर्ड मरीजों के लिए टीकाकरण (बुधवार और शुक्रवार) और पीला बुखार (गुरुवार), पल्मोनरी (टीकाकरण आरएमआरसी), एनेस्थिसियोलॉजी (पीएसी और दर्द क्लिनिक) पहले की तरह जारी रहेगा.  

इसके अलावा एम्स भुवनेश्वर 'स्वास्थ्य' ऐप और टेलीमेडिसिन (व्हाट्सएप कॉल) सेवाएं जारी रहेंगी. ओपीडी में शारीरिक रूप से आने के बजाय मरीजों को अधिक डिजिटल रूप से जुड़ने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा. टेलीमेडिसिन सेवाएं सोमवार से शुक्रवार तक सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक और सभी कार्य दिवसों में शनिवार को सुबह 9 से दोपहर 1 बजे तक काम करेंगी. इसी तरह एम्स भुवनेश्वर स्वास्थ्य ऐप सोमवार से शुक्रवार तक सुबह 8.30 बजे से शाम 5 बजे तक और शनिवार को सुबह 8.30 बजे से दोपहर 1 बजे तक सभी कार्य दिवसों में चालू रहेगा.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें