scorecardresearch
 

झारखंड में 14 मई से 18+ वालों का वैक्सीनेशन, शुरू हुईं तैयारियां 

कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए सोरेन सरकार द्वारा 14 मई से 18+ वालों के लिए वैक्सीनेशन शुरू किया जा रहा है. वैक्सीन लगवाने के लिए किसी प्रकार का शुल्क नहीं देने होगा. सरकार ने तीसरे चरण के वैक्सीनेशन अभियान के लिए तैयारियां शुरू कर दी हैं.  

झारखंड में 14 मई से शुरू होगा 18+ वालों का वैक्सीनेशन झारखंड में 14 मई से शुरू होगा 18+ वालों का वैक्सीनेशन
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सीएम ने कहा- वैक्सीन पूरी तरह है सुरक्षित 
  • अब तक मिलीं 2.34 लाख वैक्सीन की डोज 
  • बोकारो अस्पताल तक बिछाई जा रही पाइपलाइन

झारखंड में 18 साल से 44 साल तक की उम्र के सभी लोगों को वैक्सीन लगाने का निर्णय सरकार ने लिया है. यह वैक्सीन आगामी 14 मई से लगायी जाएगी. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि लोगों को वैक्सीनेशन के लिए कोई शुल्क देने की आवश्यकता नहीं है. राज्य सरकार नि:शुल्क वैक्सीनेशन का कार्य कर रही है. 14 मई से जैसे-जैसे वैक्सीन की उपलब्धता होगी, लोगों को हम वैक्सीन देने में सक्षम होंगे.

मुख्यमंत्री ने कहा कि वैक्सीनेशन के प्रति कोई भ्रम अथवा असमंजस की स्थिति उत्पन्न न हो, इसके लिए प्रचार-प्रसार भी किया जा रहा है. सीएम ने कहा है कि कोरोना का टीका पूरी तरह सुरक्षित और कारगर है. यह संदेश लोगों के बीच अधिक से अधिक प्रसारित करें. सीएम के मुताबिक लोगों के जीवन की सुरक्षा कवच के रूप में वैक्सीन अहम होगी.

बता दें कि झारखंड को सीरम इंस्टीट्यूट से कोविशील्ड की एक लाख डोज बीते शनिवार को आवंटित हो गई थीं. इससे पहले, भारत बायोटेक से 1.34 लाख कोवैक्सीन की डोज झारखंड को मिल चुकी हैं. इससे 18 से 44 वर्ष के लोगों के लिए 2.34 लाख डोज वैक्सीन उपलब्ध हो गई है. राज्य सरकार इस स्थिति में पहुंच गई है कि इस आयु वर्ग के लिए टीकाकरण शुरू किया जा सके.


10 दिन में तैयार होगा 50 बेड का अस्थायी अस्पताल   
कोविड मरीजों के लिए अतिरिक्त ऑक्सीजन बेड की तैयारी के लिए बीएसएल की टीम युद्ध स्तर पर लगी हुई है. निदेशक प्रभारी अमरेन्दु प्रकाश के मार्गदर्शन में प्लांट से सीधे गैसियस ऑक्सीजन की पाइप लाइन एचआरडी सेंटर तथा बोकारो जेनरल अस्पताल तक बिछाने का कार्य तेजी से चल रहा है. अतिरिक्त ऑक्सीजन बेड की सुविधा बढ़ाने के लिए पहले चरण में बीएसएल के एचआरडी सेंटर में लगभग 50 बेड का अस्थायी अस्पताल तैयार किया जा रहा है. यह सेंटर अगले दस दिनों में बनकर तैयार हो जाएगा. 

डॉक्टर और नर्स की होगी जल्द नियुक्ति 
प्लांट से गैसियस ऑक्सीजन की पाइपलाइन बोकारो जेनरल अस्पताल तक बिछाई जा रही है, जहां कोविड के उपचार हेतु 100 अतिरिक्त ऑक्सीजन बेड तैयार किए जा रहे हैं. बढ़ते हुए मरीजों की संख्या को देखते हुए बीएसएल अनुबंध पर डाक्टरों और नर्सों की बहाली के प्रयास में भी जुटी है. इस अभियान के तहत वॉक-इन- इंटरव्यू के माध्यम से  7 मई तक प्रबंधन ने 14 डाक्टर्स और 29 नर्स को अनुबंध पर बहाली का ऑफर लेटर भी निर्गत कर दिया है. डाक्टर्स और नर्स की कमी को दूर करने के प्रायस आगे भी जारी रहेंगे. वहीं इसके अलावा 10 वेंटिलेटर की भी यहां पर व्यवस्था की गई है. (इनपुट-बोकारो से संजय कुमार )

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें