scorecardresearch
 

नोएडा: कोरोना महामारी में DM का प्लान, ऑक्सीजन की कालाबाजारी करने वालों पर लगेगा NSA

नोएडा में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए डीएम सुहास एल.वाई ने अधिकारियों के साथ मीटिंग की और कुछ सख्त कदम उठाने के निर्देश दिए हैं. डीएम के आदेश के बाद मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने टीम के अधिकारियों के साथ कई प्राइवेट अस्पतालों का गहन निरीक्षण किया. फिर 200 से ज्यादा बेड खाली कराए गए. ऐसा माना जा रहा है कि आने वाले समय में नोएडा के कुछ अस्पतालों पर गाज भी गिर सकती है. 

सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • प्राइवेट अस्पताल के 200 बेड कराए गए खाली
  • कोविड मरीजों को नहीं होनी चाहिए कोई परेशानी

नोएडा में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए डीएम सुहास एल.वाई ने अधिकारियों के साथ मीटिंग की और कुछ सख्त कदम उठाने के निर्देश दिए हैं. डीएम के आदेश के बाद मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने टीम के अधिकारियों के साथ कई प्राइवेट अस्पतालों का गहन निरीक्षण किया. फिर 200 से ज्यादा बेड खाली कराए गए. ऐसा माना जा रहा है कि आने वाले समय में नोएडा के कुछ अस्पतालों पर गाज भी गिर सकती है. 

जिन प्राइवेट अस्पतालों में मरीजों को बिना आवश्यकता के आधार पर बेड उपलब्ध कराए गए हैं,  उनके खिलाफ  बड़ी कार्रवाई होने की संभावना है. नोएडा के कुछ प्राइवेट अस्पतालों में  कुछ ऐसे मरीजों को बेड दे रखे हैं, जिनका इलाज घर पर हो सकता है उन्हें फिलहाल अस्पताल के बेड की जरूरत नहीं है. जबकि उन मरीजों को अस्पताल में रहने की कोई आवश्यकता नहीं है. इसके अलावा कोई भी व्यक्ति ऑक्सीजन की ब्लैक मार्केटिंग करते हुए पाया गया तो उसके विरुद्ध रासुका (NSA) लगाने की कार्रवाई  जिला प्रशासन करेगा. इसी प्रकार प्राइवेट अस्पतालों के विरुद्ध सख्त एक्शन लिया जाएगा. 

डीएम ने सीएमओ को साफ निर्देश दिए हैं कि आपदा के समय में बाधा पहुंचाने वालों के खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाए ताकि कोरोना पीड़ित मरीजों को सही समय पर इलाज मिल सके उन्हें किसी तरह की कोई भी दिक्कत का सामना न करना पड़े. 

शुक्रवार को जनपद गौतम बुद्ध नगर में कोरोना के रिकॉर्ड एक हजार से ज्यादा मामले सामने आए. आने वाले समय में मरीजों की संख्या में इजाफा हो सकता है. इसलिए डीएम ने अधिकारियों से इस विपदा से निपटने का खास प्लान तैयार किया है. जिससे लोगों को ऑक्सीजन की वजह से दम न तोड़ना पड़े और मरीजों का सही समय पर इलाज होता रहे.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें