scorecardresearch
 

कोरोना के नए वैरिएंट में कैसे लक्षण? जानें Omicron को खोजने वाली डॉक्टर क्या बोलीं

Omicron वैरिएंट को लेकर दक्षिण अफ्रीकी डॉक्टर ने एक राहत भरा दावा किया है. उन्होंने बताया कि Omicron वैरिएंट से संक्रमित मरीज को थकान, सिरदर्द और बदन दर्द जैसी आम समस्या होती है.

X
ओमिक्रॉन वैरिएंट पर डॉक्टर ने राहत भरा दावा किया है. (फाइल फोटो-PTI) ओमिक्रॉन वैरिएंट पर डॉक्टर ने राहत भरा दावा किया है. (फाइल फोटो-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मरीजों में सिरदर्द, बदन दर्द जैसी समस्या
  • घर पर ही रह कर हो सकता है इलाज
  • जिन्हें वैक्सीन नहीं लगी, वो हो रहे संक्रमित

दक्षिण अफ्रीका में मिले कोरोना वायरस के नए Omicron वैरिएंट को लेकर एक ऐसी जानकारी सामने आई है जो थोड़ी राहत देना वाली है. दक्षिण अफ्रीकी डॉक्टर का कहना है कि Omicron वैरिएंट से संक्रमित मरीज में बहुत हल्के लक्षण होते हैं और घर पर रहकर इसका इलाज हो सकता है.

साउथ अफ्रीकन मेडिकल एसोसिएशन की अध्यक्ष डॉ. एंजेलिक कोएट्जी (Dr. Angelique Coetzee) ने न्यूज एजेंसी को बताया कि उनकी क्लीनिक में 7 ऐसे मरीज आए थे, जिनमें Delta वैरिएंट से अलग लक्षण थे और ये 'बहुत हल्के' थे. उन्होंने बताया कि उनके पास 18 नवंबर को मरीज आए थे, जिन्हें बदन दर्द और सिरदर्द जैसी शिकायत थी.

 'सामान्य वायरल फीवर जैसे लक्षण'

डॉ. कोएट्जी ने बताया कि इसके लक्षण सामान्य वायरल फीवर जैसे ही थे. दरअसल 8 से 10 हफ्तों में यहां कोई कोरोना का केस नहीं आया था, इसलिए हमने टेस्ट किया, जिसमें उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई. उसी दिन उनके पास कुछ और मरीज इसी लक्षण के साथ आए थे. उसके बाद से हर दिन उनके पास ऐसे ही लक्षण वाले 2 से 3 मरीज आ रहे हैं.

ये भी पढ़ें-- खौफ बनकर उभर रहा Omicron, 10 प्वाइंट्स में जानें नए वैरिएंट पर क्या कुछ कर रही सरकार

Covid-19 का नया वैरिएंट B.1.1529 बीते हफ्ते दक्षिण अफ्रीका में मिला था. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इसे 'Variant of Concern' यानी 'चिंताजनक' घोषित किया है. इसे Omicron नाम दिया गया है. 

'अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत नहीं'

डॉ. कोएट्जी वही डॉक्टर हैं जिन्होंने सबसे पहले Omicron वैरिएंट की पहचान की थी. वो सरकार की वैक्सीन पर बनी एडवाइजरी कमेटी में भी शामिल हैं.

उन्होंने बताया कि अभी जो मरीज आ रहे हैं, उनमें बहुत ही हल्के लक्षण हैं और उन्हें अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत नहीं है. ऐसे मरीजों का घर पर ही इलाज किया जा सकता है. उन्होंने ये भी बताया कि Delta वैरिएंट के उलट Omicron से संक्रमित मरीज की स्मेल और टेस्ट भी नहीं गया और न ही उनका ऑक्सीजन लेवल गिरा.

उन्होंने बताया कि उनके पास अभी तक जो मरीज आए हैं, उनमें से ज्यादातर 40 साल या उससे ज्यादा उम्र के थे. इनमें से आधे मरीज ऐसे थे जिन्हें वैक्सीन भी नहीं लगी थी. इस वैरिएंट से संक्रमित मरीज को एक या दो दिन बहुत ज्यादा थकान रहती है. उन्हें सिरदर्द, बदन दर्द जैसी समस्या आती है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें