scorecardresearch
 

विश्व गोल्ड काउंसिल का दावा, शुद्ध नहीं आपकी हॉलमार्क ज्वैलरी

वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल की यह रिपोर्ट न सिर्फ चौंकाने वाली है बल्कि देश में सोने की ज्वैलरी खरीद रहे अधिकांश लोगों के पैरों तले जमीन खिसकने का डर भी है. काउंसिल ने दावा किया है कि भारत में हॉलमार्क सर्टिफाइड गोल्ड ज्वैलरी में सोने की शुद्धता अलग-अलग पाई गई है.

File Image File Image

सोने की कीमत गिरकर पांच साल से ज्यादा नीचे के स्तर पर पहुंच गई है. ऐसे में भारत ऐसा देश है जहां सोने की खपत दुनिया में सबसे ज्यादा है और लोगों में ऐसे मौके पर सोना खरीदने का रुझान बढ़ जाता है. लेकिन वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल की यह रिपोर्ट न सिर्फ चौंकाने वाली है बल्कि देश में सोने की ज्वैलरी खरीद रहे अधिकांश लोगों के पैरों तले जमीन खिसकने का डर भी है. जी हां, वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल ने दावा किया है कि भारत में हॉलमार्क सर्टिफाइड गोल्ड ज्वैलरी में सोने की शुद्धता अलग-अलग पाई गई है.

गौरतलब है कि भारत में हॉलमार्किंग प्रक्रिया न सिर्फ गोल्ड मॉनेटाईजेशन स्कीम को सफल बनाने के लिए की जाती है बल्कि इसके सहारे देश से सोने की ज्वैलरी के निर्यात को मौजूदा 8 बिलियन डॉलर से बढ़ाकर अगले पांच सालों में 40 बिलियन डॉलर तक ले जाना भी है.

हालांकि देश में सोने की हॉलमार्किंग प्रक्रिया कानूनी तौर पर जरूरी नहीं है. लेकिन इसे सोने की शुद्धता पर मुहर लगाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है और देश में लोग इस हॉलमार्किंग को देखने के बाद सोने की शुद्धता पर सवाल नहीं उठाते. गौरतलब है कि कंज्यूमर अफेयर मंत्रालय के अंतर्गत आने वाला ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड्स (बीआईएस) पर सोने की हॉलमार्किंग का प्रशाषनिक कार्यभार है.

विश्व गोल्ड काउंसिल की रिपोर्ट के मुताबिक देश में फिलहाल 30 फीसदी सोने की ज्वैलरी हॉलमार्क्ड है और देश में कुछ हॉलमार्किंग केन्द्रों की भूमिका संदिग्ध है. लिहाजा, देश में वास्तविक हॉलमार्क ज्वैलरी 30 फीसदी से कम है. साथ ही हॉलमार्क हुई ज्वैलरी में भी अलग-अलग शुद्धता देखने को मिली है क्योंकि बीआईएस का क्वॉलिटी कंट्रोल मैकेनिज्म कमजोर है और उसके पास इतनी बड़ी संख्या में शुद्धता सर्टिफिकेट देने की पर्याप्त क्षमता नहीं है.

गौरतलब है कि देश में लगभग 220 बीआईएस अधिकृत हॉलमार्किंग केन्द्र हैं जिसमें सर्वाधिक 57 केन्द्र तमिलनाडु और 39 केन्द्र केरल में हैं. वहीं जहां दक्षिण भारत में कुल 153 केन्द्र हैं तो उत्तर भारत में मात्र 111 केन्द्र हैं. वहीं देश में प्रति वर्ष 800-1000 टन सोने की खपत होती है और लगभग पूरा सोना इंपोर्ट किया जाता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें