scorecardresearch
 

इन पांच कारणों से लुढ़का सोना, क्या करें खरीदार

सोना वायदा बाजार में कीमतें लुढ़ककर पांच साल के निचले स्तर पर पहुंच गई हैं. सोमवार सुबह मेटल एक्सचेंज एमसीएक्स पर सोना 500 रुपये की गिरावट के साथ 25,000 के अहम स्तर के निचे चला गया.

File Image File Image

सोना वायदा बाजार में कीमतें लुढ़ककर पांच साल के निचले स्तर पर पहुंच गई हैं. सोमवार सुबह मेटल एक्सचेंज एमसीएक्स पर सोना 500 रुपये की गिरावट के साथ 25,000 के अहम स्तर के निचे चला गया. ऐसे में कमोडिटी जानकारों का कहना है कि सोने में यह गिरावट मजबूत होते डॉलर इंडेक्स के चलते देखने को मिल रही है और आने वाले दिन सोने की कीमतों के लिए ज्यादा अच्छे नहीं हैं.

इन पांच कारणों से हुआ सोना धड़ाम
1. शुक्रवार को चीन के शंघाई गोल्ड एक्सचेंज से बाजार में 5 टन से ज्यादा सोना बेचा गया, जिसकी वजह से सोने की कीमतों में जबरदस्त गिरावट दर्ज हुई.

2. शुक्रवार को अमेरिका के वायदा कमीशन की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक 14 जुलाई तक बड़ी मात्रा में सोने की बिकवाली की गई है जिसकी वजह से कीमतों में गिरावट दर्ज हुई.

3. ग्रीस संकट के दौरान मजबूत हुए डॉलर से डॉलर इंडेक्स एक बार फिर 98 का स्तर तोड़ चुका है जिसकी सीधा असर सोने की कीमतों पर पड़ रहा है. जानकारों का मानना है कि आने वाले दिनों में सोने की कीमतों में और गिरावट दर्ज हो सकती है.

4. अंतरराष्ट्रीय बाजार में आई भारी गिरावट का सीधा असर भारतीय बाजारों पर भी पड़ा. सोमवार को घरेलू वायदा बाजार में भी सोने की कीमतें 25000 के महत्वपूर्ण स्तर के नीचे पहुंच गई.

5. जानकारों का मानना है कि 1 अगस्त से प्रस्तावित गोल्ड मॉनेटाइजेशन स्कीम शुरु की जाती है तो बाजार में सोने का स्टॉक बढ़ जाएगा जिससे कीमतों में और भी बड़ी गिरावट देखने को मिल सकती है.

सोना खरीदें या फिर खरीदने से बचें?
केडिया कमोडिटी के प्रमुख अजय केडिया के मुताबिक आने वाले कुछ दिनों में सोने की कीमतों में गिरावट देखने को मिलेगी. अजय का मानना है कि दिवाली से पहले सोना 24000 रुपए के स्तर को छू सकता है लिहाजा सोने में गिरावट के इस दौर में ग्राहकों को खरीदारी से बचना चाहिए. कुछ दिनों में निचले स्तर के नजदीक पहुंचने पर खरीदारी करने पर समझदारी रहेगी.

ज्वैलरी खरीदने से बचें
बाजार के जानकारों का मानना है कि आने वाले कुछ दिनों में सोने की कीमतों में गिरावट जारी रह सकती है. ऐसे में ज्वैलर्स के पास मौजूद सोना पुरानी दरों पर है और ग्राहकों को खरीदारी से कुछ दिनों तक परहेज करना चाहिए. लिहाजा कुछ वक्त इंतजार के बाद ज्वैलरी की खरीदारी करनी चाहिए.

क्या है गोल्ड मॉनेटाइजेशन स्कीम
वित्त मंत्रालय ने नई गोल्ड मॉनेटाइजेशन स्कीम का ड्राफ्ट जारी किया है जिसके मुताबिक कम से कम 30 ग्राम सोना बैंक में जमा किया जा सकेगा. इस सोने पर बैंक ग्राहकों को सेविंग बैंक खातों की तरह ब्याज भी देगी जिसे ग्राहक चाहें तो सोने में बदल कर अपने जमा सोने का वजन बढ़ा सकते हैं. गौरतलब है कि पिछले बजट में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इस स्कीम का जिक्र करते हुए कहा था कि 'नई स्कीम गोल्ड डिपॉजिटर्स को अपने मेटल एकाउंट में ब्याज हासिल करने का मौका देगी. वहीं, ज्वैलर्स को अपने मेटल एकाउंट पर लोन मिल सकेगा. इस स्कीम को 1 अगस्त से लागू किया जाना है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें