scorecardresearch
 

RBI ने रिवर्स रेपो रेट और रेपो रेट में 50 बेसिस अंक की कटौती, सस्ता होगा होम लोन

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने रेपो रेट की दर 50 बेसिस पॉइंट घटा दी है. इसी के साथ तत्काल प्रभाव से रेपो रेट 6.75 फीसदी हो गई है. इसका सीधा मतलब यह है कि बैंक अब रिजर्व बैंक से अपेक्षाकृत रूप से कम दर पर पैसे उधार ले सकेंगे. बैंक ने कैश रिजर्व रेशियो (सीआरआर) में कोई बदलाव नहीं किया है.

X
रेपो रेट घटने से अब होम लोन होगा सस्ता रेपो रेट घटने से अब होम लोन होगा सस्ता

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने रेपो रेट की दर 50 बेसिस पॉइंट घटा दी है. इसी के साथ तत्काल प्रभाव से रेपो रेट 6.75 फीसदी हो गई है. इसका सीधा मतलब यह है कि बैंक अब रिजर्व बैंक से अपेक्षाकृत रूप से कम दर पर पैसे उधार ले सकेंगे. बैंक ने कैश रिजर्व रेशियो (सीआरआर) में कोई बदलाव नहीं किया है.

रेपो रेट में कमी तेजी से विकास में सहयोगी हो सकती है. रेपो रेट घटने से होम लोन सस्ता होने के आसार बढ़ गए है. रेपो रेट घटने के बाद बैंकों से लोन की दरें भी कुछ हद तक कम होंगी. हालांकि यह कमी रेपो रेट में कमी के बराबर नहीं होगी. हालांकि हर बार यह फायदा हो, यह जरूरी नहीं है.

क्या है रेपो रेट ?
रेपो रेट वह दर है, जिस पर वाणिज्यिक बैंक रिज़र्व बैंक से कम अवधि का उधार लेते हैं. इसका असर ब्याज दरों पर पड़ सकता है.पिछली समीक्षा में आरबीआई ने रेपो दर को 7.25 फीसदी पर ही जारी रखा था. आरबीआई ने 2015 में अब तक विभिन्न चरणों में रेपो दर में कुल 75 आधार अंकों की कटौती की है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें