scorecardresearch
 

ट्रम्प बोले- अमेरिकी मोटरसाइकिलों पर भारत का 50% टैरिफ भी स्वीकार नहीं

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि भले ही भारत ने अमेरिकी मोटरसाइकिलों पर अपने आयात शुल्क को 100 प्रतिशत से घटाकर 50 प्रतिशत कर दिया है, लेकिन यह अभी भी बहुत अधिक है और हम इसे स्वीकार नहीं कर सकते.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उठाए सवाल अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उठाए सवाल

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने एक बार फिर टैरिफ रेट को लेकर भारत पर सवाल उठाए हैं. ट्रम्प ने कहा कि भले ही भारत ने अमेरिकी मोटरसाइकिलों पर अपने आयात शुल्क को 100 प्रतिशत से घटाकर 50 प्रतिशत कर दिया है, लेकिन यह अभी भी बहुत अधिक है और हम इसे स्वीकार नहीं कर सकते. अमेरिका एक ऐसा देश है जिसे अब मूर्ख नहीं बनाया जा सकता है.

ट्रम्प असल में हार्ले डेविडसन मोटरसाइकिलों पर भारत में लगने वाले आयात शुल्क की बात कर रहे थे. इसे लेकर अमेरिका काफी संवेदनशील है और ट्रम्प चाहते हैं कि भारत इसे घटाकर शून्य फीसदी तक लाए.

न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, ट्रम्प ने पीएम मोदी से अपनी बातचीत का हवाला देते हुए कहा, 'जब हार्ले वहां भेजा जाता है तो वे 100 फीसदी टैक्स लगा देते हैं. जब वे यहां भेजते हैं (वे बड़ी संख्या में मोटरसाइकिलें बनाते हैं) तो कोई टैक्स नहीं लगता. मैंने उन्हें फोन किया. मैंने कहा कि यह स्वीकार्य नहीं है.' 

ट्रम्प ने कहा, 'उन्होंने (पीएम मोदी) ने हमारे एक फोन करने पर टैरिफ 50 फीसदी घटा दिया. लेकिन मैंने कहा कि यह भी स्वकार्य नहीं है, क्योंकि यह 50 फीसदी बना शून्य है. यह अब भी अस्वीकार्य है. और वे इस पर काम कर

रहे हैं.' इस तरह उन्होंने यह संकेत दिया कि दोनों देश अब भी अमेरिकी मोटरसाइकिलों पर आयात शुल्क लगाने के मसले को हल करने पर बातचीत कर रहे हैं.

गौरतलब है कि मोदी सरकार ने पिछले साल बजट के दौरान कई विदेशी चीज़ों के इम्पोर्ट पर कस्टम ड्यूटी बढ़ा दी थी. यह फैसला अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को पसंद नहीं आया. इसके तत्काल बाद स्टील इंडस्ट्री की एक बैठक के दौरान ट्रम्प ने भारत के द्वारा हार्ले डेविडसन बाइक पर अधिक टैरिफ लगाने का कड़ा विरोध किया था. उन्होंने इसे बिल्कुल गलत बताया था.

अमेरिकी राष्ट्रपति ने तब भी कहा था कि अमेरिका बाइक को इंपोर्ट करने में किसी तरह का चार्ज नहीं वसूलता है, लेकिन भारत ने ऐसा किया है. अगर ऐसा ही हुआ तो अमेरिका भी भारत से आने वाली बाइकों पर ज्यादा टैरिफ लगा सकता है. कुछ दिनों पहले भी ट्रम्प ने व्यापार मामलों को लेकर भारत पर निशाना साधा था. अप्रैल महीने में ट्रम्प ने कहा था कि भारत दुनिया में सर्वाधिक शुल्क लगाने वाले देशों में से एक है.

वॉशिंगटन में अमेरिकी राष्ट्रपति ने नेशनल रिपब्लिकन कांग्रेशनल कमेटी एनुअल स्प्रिंग डिनर में कहा कि भारत हर्ले-डेविडसन मोटरसाइकिल समेत अमेरिकी उत्पादों पर 100 फीसदी टैक्स लगाता है, उन्होंने कहा कि इस तरह बेतहाशा टैक्स लगाना उचित नहीं है. ट्रम्प ने तंज कसते हुए भारत को 'टैक्स का बादशाह' बताया.

दरअसल आर्थिक मोर्चे पर इन दिनों भारत और अमेरिका के बीच तल्खी बढ़ गई है. पिछले महीने अमेरिका के ट्रम्प प्रशासन की ओर से भारत को दी जाने वाली GSP (जेनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रेफरेंस) सुविधा को छीन लिया गया. इसका मतलब यह हुआ कि भारत अब जिन प्रोडक्‍ट को अमेरिका में बेचेगा उस पर ट्रंप सरकार टैक्‍स लगाएगी. हालांकि भारत सरकार की ओर से दावा किया जा रहा है कि अमेरिका के इस फैसले का देश पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

अमेरिका ने GSP की शुरुआत 1976 में की थी. इसका मकसद विकासशील देशों में आर्थिक वृद्धि बढ़ाना था. इसके तहत चुनिंदा सामानों के ड्यूटी-फ्री या मामूली टैरिफ पर दूसरे देशों को अमेरिका में निर्यात की अनुमति दी जाती है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें