scorecardresearch
 

ऑटो सेक्टर में गईं 3.5 लाख नौकरियां, GST में कटौती की बढ़ी मांग

अप्रैल माह से अब तक ऑटो सेक्टर में करीब 3.5 लाख लोगों की नौकरियां जा चुकी हैं. इसे देखते हुए ऑटो सेक्टर के दिग्गजों ने जीएसटी में कटौती सहित कई तरह के प्रोत्साहन पैकेज देने की मांग की है.

कारों की बिक्री में भारी गिरावट कारों की बिक्री में भारी गिरावट

देश का ऑटो सेक्टर काफी संकट से गुजर रहा है. बिक्री में भारी गिरावट की वजह से अप्रैल माह से अब तक ऑटो सेक्टर में करीब 3.5 लाख लोगों की नौकरियां जा चुकी हैं. इसे देखते हुए ऑटो सेक्टर के दिग्गजों ने जीएसटी में कटौती सहित कई तरह के प्रोत्साहन पैकेज देने की मांग की है. गुरुवार को महिंद्रा ऐंड महिंद्रा के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने जीएसटी रेट में कटौती करने की मांग की.

गौरतलब है कि ऑटो सेक्टर को संकट से उबरने के लिए बुधवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ वाहन उद्योग के प्रतिनिधियों महिंद्रा ऐंड महिंद्रा के मैनेजिंग डायरेक्टर पवन गोयनका, मारुति के चेयरमैन आरसी भार्गव, हीरो मोटो के पवन मुंजाल सहित सियाम और फाडा के प्रतिनिधियों ने मुलाकात की थी. सभी ने वित्त मंत्री से इस क्षेत्र को जल्द से जल्द पटरी पर लाने के लिए जीएसटी में कटौती और प्रोत्साहन पैकेज देने की मांग की.

देश के GDP में करीब 7.1 फीसदी का योगदान करने वाले ऑटो सेक्टर की बिक्री में पिछले करीब एक साल से गिरावट देखी जा रही है. इसकी वजह से ऑटो कंपनियों के शोरूम बंद हो रहे हैं और बड़े पैमाने पर छंटनी हो रही है. इसकी वजह से इस उद्योग के लोग जीएसटी में कटौती की मांग कर रहे हैं. अभी कारों-मोटरसाइकिलों पर 28 फीसदी का जीएसटी लगता है, जिसे घटाकर 18 फीसदी करने की मांग की जा रही है.

महिंद्रा ऐंड महिंद्रा की सालाना आम सभा (AGM) में शेयरधारकों को संबोधित करते हुए आनंद महिंद्रा ने कहा, 'सबसे स्वाभाविक और पहला स्वागतयोग्य कदम यह हो सकता है कि जीएसटी के मोर्चे पर कुछ राहत दी जाए, दरों में बदलाव किया जाए या अगर यह संभव न हो तो कम से कम सेस खत्म कर दिए जाएं. एक और विकल्प यह हो सकता है कि रजिस्ट्रेशन फीस की समीक्षा की जाए. मुझे यह उम्मीद है कि ऐसे कदमों से यह उद्योग पटरी पर आएगा और अर्थव्यवस्था पर भी इसका सकरारात्मक असर होगा.'  

वाहन उद्योग में सुस्ती बढ़ने से बड़ी संख्या में लोगों की नौकरियों पर संकट मडराने लगा है. रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, अप्रैल से अब तक करीब 3.5 लाख लोगों की छंटनी हो चुकी है. ऑटो डीलर्स ने करीब 2 लाख लोगों को नौकरी से निकाला है. ऑटो सेक्टर करीब 3.5 करोड़ लोगों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तौर से जॉब मुहैया करा रहा है.

इसके अलावा एनबीएफसी सेक्टर के दिक्कत में फंसने से नकदी का संकट, कमजोर मानसून, अर्थव्यवस्था में मंदी, खपत का कम होना, नौकरियों की कमी, पुराने वाहनों की संगठित बिक्री आदि की वजह से ऑटो सेक्टर पर मंदी की मार पड़ी है.

गौरतलब है कि जुलाई में लगातार नौवें महीने पैसेंजर व्हीकल्स की बिक्री में गिरावट आई है. पिछले महीने बिक्री में करीब 30 फीसदी की गिरावट आई. मारुति सुजूकी की बिक्री में 36 फीसदी तो, होंडा कार्स की बिक्री में 49 फीसदी तक की गिरावट आ चुकी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें