scorecardresearch
 

नोटबंदी का सबसे बड़ा फायदा, लोगों में आया कैश डीलिंग का डर: जेटली

नोटबंदी के एक साल पूरे होने पर अरुण जेटली ने कहा कि पिछले 3 साल में केंद्र सरकार ने जो भी निर्णय लिए हैं उसके हिसाब से नोटबंदी का फैसला बिल्कुल सही था. भारत अगर विकसित देश बनना चाहता है तो कैश से इतर डिजिटल अर्थव्यवस्था पर तेज गति से काम होना चाहिए.

बंद हुए 1000 और 500 के नोट (फाइल फोटो) बंद हुए 1000 और 500 के नोट (फाइल फोटो)

इंडिया टुडे कॉन्क्लेव- NEXT के मंच से वित्त मंत्री अरुण जेटली ने नोटबंदी का फायदा गिनाते हुए कहा कि एक साल में नोटबंदी का सबसे बड़ा फायदा यह मिला है कि लोगों को कैश डीलिंग से डर लगने लगा है. जेटली के बताया कि पहले नोटबंदी से पैदा हुआ यह डर और बाद में जीएसटी लागू होने से भारतीय अर्थव्यवस्था अब अपने टैक्स कलेक्शन और एसेसमेंट के काम को पूरी तरह से डिजिटल मैप पर ला चुका है.

नोटबंदी का फैसला बिल्कुल सही

नोटबंदी के एक साल पूरे होने पर अरुण जेटली ने कहा कि पिछले 3 साल में केंद्र सरकार ने जो भी निर्णय लिए हैं उसके हिसाब से नोटबंदी का फैसला बिल्कुल सही था. भारत अगर विकसित देश बनना चाहता है तो कैश से इतर डिजिटल अर्थव्यवस्था पर तेज गति से काम होना चाहिए.

जेटली ने बताया कि केन्द्र सरकार के फैसलों से देश में कैश करेंसी को कम करने की प्रक्रिया शुरू हुई है. जेटली ने कहा कि यदि हम देश मे करदाताओं की संख्या को बढ़ाना चाहते हैं तो ऐसा फैसला लेना बेहद जरूरी था. वित्त मंत्री ने दावा किया कि नोटबंदी के बाद एकत्र हुए आंकड़ों से साफ है कि टैक्स देने वालों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. वहीं जेटली ने यह भी कहा कि नोटबंदी ने नक्सली गतिविधियों और आंतकवाद की घटनाओं पर भी काबू पाने के अपने मकसद को पूरा किया है.

नोटबंदी से लाखों शेल कंपनियों पर लगी लगाम

हालांकि नोटबंदी से पैदा हुए आर्थिक और व्यवहारिक उथल-पुथल पर वित्तमंत्री ने कहा कि नोटबंदी के फैसले को सिर्फ एक फैसले की तरह देखना उचित नहीं है. इस फैसले को केन्द्र सरकार द्वारा ब्लैकमनी पर लगाम लगाने के लिए उठाए गए अन्य कदमों के साथ मिलाकर देखने की जरूरत है. जेटली ने दावा किया कि नोटबंदी के बाद देश में लाखों शेल कंपनियों पर लगाम लगा है. मनीलॉन्डरिंग करने वाली इन कंपनियों के खिलाफ जांच आगे बढ़ रही है. बहुत जल्द इन कंपनियों द्वारा इधर से उधर किया गया पैसा भी पकड़ लिया जाएगा.

कालेधन के खिलाफ लड़ाई एक सतत प्रक्रिया

कालेधन के खिलाफ मोदी सरकार की जंग पर बोलते हुए जेटली ने कहा कि महज किसी एक फैसले से कालेधन की समस्या को दूर नहीं किया जा सकता. जेटली के मुताबिक कालेधन के खिलाफ लड़ाई एक सतत प्रक्रिया है. फिलहाल, नोटबंदी लागू होने के बाद लाखों की संख्या में शेल कंपनियों को पकड़ा गया है. इन कंपनियों के खिलाफ जांच जारी है और यही नोटबंदी से होने वाला सबसे बड़ा फायदा है. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें