scorecardresearch
 

चीन की तर्ज पर भारत में दौड़ेगी बुलेट ट्रेन!

नरेंद्र मोदी अपने बुलेट ट्रेन के सपने को साकार करना चाहते हैं और इसके लिए वो जापान से लेकर चीन तक इसे देख आये हैं. अब भारत ने भी चीन की ही तर्ज पर अपने यहां बुलेट ट्रेन चलाने की योजना बनाई है और मोदी सरकार ने अपने पहले रेल बजट में ही बहुप्रतीक्षित बुलेट ट्रेन के प्रावधान की घोषणा कर दी है. यह ट्रेन अहमदाबाद से मुंबई के बीच दौड़ेगी. बुलेट ट्रेन दौड़ने का साथ ही अहमदाबाद से मुंबई जाने में केवल 2 घंटे लगेंगे. यानी तकरीबन पांच घंटों की बचत होगी.

बुलेट ट्रेन की प्रतीकात्मक तस्वीर बुलेट ट्रेन की प्रतीकात्मक तस्वीर

नरेंद्र मोदी बुलेट ट्रेन के अपने सपने को साकार करना चाहते हैं और इसके लिए वो जापान से लेकर चीन तक इसे देख आये हैं. आखिरकार मोदी सरकार ने अपने पहले रेल बजट में ही बहुप्रतीक्षित बुलेट ट्रेन के प्रावधान की घोषणा कर दी है. यह ट्रेन अहमदाबाद से मुंबई के बीच दौड़ेगी. बुलेट ट्रेन दौड़ने का साथ ही अहमदाबाद से मुंबई जाने में केवल 2 घंटे लगेंगे. यानी तकरीबन पांच घंटों की बचत होगी.

बुलेट ट्रेन लालू से गौड़ा तक रेल मंत्री का ही नहीं बल्कि उनके प्रधानमंत्री का भी सपना रहा है. जिस राजधानी और शताब्दी को देश की आन बान और शान माना जाता है वो भी केवल 150 किलोमीटर की रफ्तार तक ही पहुंच पाती है. लेकिन बुलेट ट्रेनें 250 किलोमीटर की रफ्तार से कम पर नहीं चलतीं. अब भारत ने भी चीन की ही तर्ज पर अपने यहां बुलेट ट्रेन चलाने की योजना बनाई है.

चीन में रफ्तार की ताकत हैं बुलेट ट्रेनें
चीन ने रफ्तार की ताकत को कई दशक पहले समझ लिया था. शंघाई से बीजिंग 1,400 किलोमीटर का सफर भी केवल 3 से 4 घंटे में तय कर सकते हैं. इससे आम लोगों को फायदा तो पहुंचता ही है अर्थव्यवस्था को भी काफी आगे बढ़ने का मौका मिलता है. बुलेट ट्रेनों के मामले में चीन का कोई सानी नहीं है. चीन बुलेट ट्रेन चलाने और नेटवर्क फैलाने में नंबर वन है. चीन में पूरे विश्व का सबसे बड़ा बुलेट ट्रेन नेटवर्क है. यहां बुलेट ट्रेन का नेटवर्क लगभग 11 हजार किलोमीटर का है.

बुलेट ट्रेन चलने से क्या होगा अंतर
अहमदाबाद-मुंबई रूट पर करीब 26 ट्रेनें फिलहाल रोजाना दौड़ रही हैं. इनमें डबल डेकर और शताब्दी ट्रेन करीब 7 घंटे का समय लेती हैं जबकि ए.सी. सुपर फास्ट ट्रेन सबसे कम 6 घंटे 45 मिनट का समय लेती हैं. अन्य ट्रेनें 8 घंटे से 16 घंटे (पैसेंजर ट्रेन) तक का समय लेती हैं. बुलेट ट्रेन यानी करीब 300 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दूरी तय करने वाली ट्रेनें. बुलेट ट्रेनों के दौड़ने के साथ ही यह दूरी 7 घंटे से सिमट कर महज 2 घंटे रह जाएगी.

दिल्ली से आगरा के बीच सेमी हाई स्पीड ट्रेन
डेढ़ सौ साल से भी अधिक पुरानी है भारतीय रेल जहां हम अब तक अधिकतम 150 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से सफर कर रहे थे. अब दिल्ली से आगरा के बीच इसी महीने की 3 तारीख को सेमी हाई स्पीड ट्रेन के ट्रायल के साथ ही 160 किलोमीटर की रफ्तार से दौड़ने की शुरुआत हुई है. अभी सेमी हाई स्पीड ट्रेन का सपना सच हुआ है अब आज हुए इस ऐलान के बाद जल्द ही बुलेट ट्रेनों का सपना जल्द ही हकीकत में तब्दील हो सकेगा.

दुनिया की सबसे तेज बुलेट ट्रेन
दुनियाभर में दौड़ रही बुलेट ट्रेनों के बीच स्पीड के मामले में बेताज बादशाह है फ्रांस. फ्रेंच नेशनल रेलवे कंपनी की बुलेट ट्रेन की रफ्तार 574.8 किलोमीटर प्रतिघंटे की है और इस मामले में यह पूरी दुनिया में सबसे आगे है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें