scorecardresearch
 

इफको ने बनाया बिक्री, उत्पादन और मुनाफे का रिकॉर्ड, 57778 करोड़ का कारोबार

वर्ष 2019-20 के दौरान इफको को 1005 करोड़ रुपये का शुद्ध मुनाफा हुआ जो अब तक का सर्वाधिक है. इफको का कहना है कि कठिन और अनिश्चित बाजार दशा तथा मौसम के बावजूद उसने 133 लाख टन उर्वरकों की रिकॉर्ड बिक्री की है.

सहकारी समिति इफको को हुआ अच्छा मुनाफा (फोटो: @drusawasthi से) सहकारी समिति इफको को हुआ अच्छा मुनाफा (फोटो: @drusawasthi से)

  • वित्त वर्ष में 2019-20 इफको को हुआ 1005 करोड़ रुपये का शुद्ध मुनाफा
  • सहकारी समिति का उत्पादन, बिक्री, लाभ और ऑपरेशन में रिकॉर्ड

दुनिया की सबसे बड़ी उर्वरक सहकारी समिति इंडियन फारमर्स फर्टिलाइजर कोआपरेटिव लि. (IFFCO) ने वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान उत्पादन, बिक्री, लाभ और ऑपरेशन के क्षेत्र में अब तक के सबसे अच्छे प्रदर्शन के साथ एक रिकॉर्ड कायम किया है.

1005 करोड़ रुपये का मुनाफा

इस दौरान इफको को 1005 करोड़ रुपये का शुद्ध मुनाफा हुआ जो अब तक का सर्वाधिक है. इसके पिछले वित्त वर्ष यानी 2018-19 में कंपनी ने 841.58 करोड़ रुपये का मुनाफा हासिल किया था. इफको का कहना है कि कठिन और अनिश्चित बाजार दशा तथा मौसम के बावजूद उसने 133 लाख टन उर्वरकों की रिकॉर्ड बिक्री की है.

इसे भी पढ़ें: चमत्कारिक है पतंजलि की सफलता की कहानी, 8 हजार करोड़ से ज्यादा का कारोबार

57,778 करोड़ का कारोबार

वर्ष 2019-20 के दौरान इफको का समूह कारोबार रुपए 57,778 करोड़ का रहा जबकि वर्ष 2018-19 के दौरान यह रुपए 50,908 करोड़ था.

ऑपरेशन पर नजर डालें तो वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान इफको का कुल उर्वरक उत्पादन गत वर्ष के 81.49 लाख टन से बढ़कर 91.42 लाख टन हो गया. वर्ष 2019-20 के दौरान हुए कुल उर्वरक उत्पादन में से यूरिया का उत्पादन 48.75 लाख टन तथा डीएपी/एनपीके/डबल्यूएसएफ़ का उत्पादन 42.87 लाख टन रहा जबकि गत वर्ष इनका उत्पादन क्रमश: 45.62 लाख टन तथा 35.87 लाख टन रहा.

इसे भी पढ़ें: इन्फोसिस के 74 कर्मचारी हुए करोड़पति, चेयरमैन नीलेकणी ने नहीं लिया वेतन

​रिकॉर्ड बिक्री

इफको ने पिछले वित्त वर्ष के दौरान 133.31 लाख टन उर्वरकों की बिक्री की जो अब तक की सर्वाधिक बिक्री है. वर्ष 2018-19 के दौरान 115.56 लाख टन उर्वरकों की बिक्री हुई थी. कुल बिक्री में से, यूरिया की 86.31 लाख टन तथा डीएपी/एनपीके की 47 लाख टन की बिक्री हुई. भारत में कलोल, कांडला, फूलपुर, आंवला तथा पारादीप में स्थित अपने कुल पांच संयंत्र तथा विदेश में स्थित तीन संयंत्र के साथ इफको विश्व की सबसे बड़ी सहकारी समिति है.

इफको के प्रबंध निदेशक डॉ. उदय शंकर अवस्थी ने कहा, 'वैश्विक और आर्थिक चुनौतियों से भरे वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान इफको ने जिस शानदार तरीके से कार्य किया है, वह अविश्वसनीय है. किसानों के कल्याण हेतु इफको द्वारा देश के कोने-कोने में उठाए गए विविध कदमों से न केवल राष्ट्र निर्माण में बल्कि वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के माननीय प्रधानमंत्री जी के सपने को साकार करने में भी मदद मिलेगी.'

इफको ने उर्वरकों के अपने मूल व्यवसाय के अतिरिक्त आम बीमा, ग्रामीण खुदरा व्यापार, कृषि वानिकी, ग्रामीण दूरसंचार, कृषि रसायन, ग्रामीण वित्त, वस्तु परिवहन-व्यवस्था और विशेष आर्थिक क्षेत्र (एसईज़ेड) में भी अपना व्यापार फैलाया है. इफको ने खाद्य प्रसंस्करण, जैविक उत्पादों और शहरी बागवानी के लिये पोषक तत्वों के उत्पादन संबंधी व्यापार में भी कदम रखा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें