scorecardresearch
 

बिटकॉइन में कर रहे हैं निवेश तो हो जाएं सावधान, IT की है नजर

मौजूदा समय में बिटकॉइन सबसे ज्यादा पॉप्युलर करंसी बन गई है. फिलहाल एक बिटक्वॉइन 18000 डॉलर के पार पहुंच गया है. हालांकि जिस तेजी से बिटकॉइन बढ़ रहा है, उससे इससे टैक्स चोरी की आशंका भी बढ़ गई है. इसी को देखते हुए इनकम टैक्स विभाग ने देशभर के बिटकॉइन एक्सचेंज का सर्वे करना शुरू कर दिया है.

बिटक्वॉइन एक्सचेंज का सर्वे कर रहा आयकर विभाग बिटक्वॉइन एक्सचेंज का सर्वे कर रहा आयकर विभाग

मौजूदा समय में बिटकॉइन सबसे ज्यादा पॉप्युलर करंसी बन गई है. फिलहाल एक बिटकॉइन  20000 डॉलर के पार पहुंच गया है. हालांकि जिस तेजी से बिटकॉइन बढ़ रहा है, उससे इससे टैक्स चोरी की आशंका भी बढ़ गई है. इसी को देखते हुए इनकम टैक्स विभाग ने देशभर के बिटकॉइन  एक्सचेंज का सर्वे करना शुरू कर दिया है.

कालेधन का रास्ता तो नहीं बन रहा बिटक्वॉइन

पीटीआई ने आध‍िकारिक सूत्रों के हवाले से कहा है कि आयकर विभाग को आशंका है कि बिटकॉइन  में निवेश अब कालेधन का सबसे सुरक्ष‍ित जरिया बनने लगा है. इसी वजह से उन्होंने देशभर के बिटकॉइन  एक्सचेंज के बारे में जानकारी जुटानी शुरू कर दी है.

9 एक्सचेंज का किया सर्वे

उन्होंने बताया कि बेंगलुरु जांच टीम के नेतृत्व में बुधवार को आयकर विभाग की कुछ टीमों ने देश के 9 एक्सचेंज के कार्यालयों में पहुंचे. ये एक्सचेज दिल्ली, बेंगलुरु, हैदराबाद, कोच्च‍ि, गुरुग्राम समेत अन्य जगहों पर हैं.

जुटाई जा रही जानकारी

यह सर्वे इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 133ए के तहत किया जा रहा है. इस सर्वे के जरिये आयकर विभाग बिटकॉइन में निवेश करने वालों की पहचान और उनके निवेश से जुड़ें आंकड़े इकट्ठा करने में जुटी हुई है. इसके अलावा निवेशकों की तरफ से अब तक कितना लेनदेन बिटकॉइन में किया गया है. उनकी तरफ से किए गए निवेश को लेकर भी जानकारी जुटाई जा रही है.

सूत्रों के मुताबिक सर्वे करने वाली टीम के पास इन एक्सचेंज के वित्तीय लेनदेन को लेकर काफी डाटा मौजूद है. इसी आधार पर यह सर्वे किया जा रहा है.  इस सर्वे का मकसद कालेधन को छुपाने की कोशिश करने वालों पर श‍िकंजा कसना है.

क्या है बिटक्वॉइन

बिटकॉइन  की शुरुआत जनवरी 2009 में हुई थी. इस वर्चुअल करंसी का इस्तेमाल कर दुनिया के किसी कोने में किसी व्यक्ति को पेमेंट किया जा सकता है और सबसे खास बात यह है कि इस भुगतान के लिए किसी बैंक को माध्यम बनाने की भी जरूरत नहीं पड़ती.

कैसे काम करती है डिजिटल करंसी

बिटकॉइन  का इस्तेमाल पीयर टू पीयर टेक्नोलॉजी पर आधारित है. इसका मतलब कि बिटकॉइन की मदद से ट्रांजैक्शन दो कंप्यूटर के बीच किया जा सकता है. इस ट्रांजैक्शन के लिए किसी गार्जियन अथवा केंद्रीय बैंक की जरूरत नहीं पड़ती. बिटकॉइन ओपन सोर्स करेंसी है, जहां कोई भी इसकी डिजाइन से लेकर कंट्रोल को अपने हाथ में रख सकता है. इस माध्यम से ट्रांजैक्शन कोई भी कर सकता है क्योंकि इसके लिए किसी तरह की रजिस्ट्रेशन अथवा आईडी की जरूरत नहीं पड़ती.

क्या है बिटकॉइन  की अहम खूबियां?

बिटकॉइन   से इंटरनेट पर आसानी से दो लोगों के बीच ट्रांजैक्शन किया जा सकता है. इस ट्रांजैक्शन में शामिल दोनों लोगों के बीच जान पहचान होना जरूरी नहीं है. न ही इस ट्रांजैक्शन को पूरा करने के लिए सरकार, बैंक अथवा किसी एजेंसी की जरूरत पड़ती है. एक बार बिटकॉयन के माध्यम से ट्रांजैक्शन हो जाने के बाद इसे कैंसल नहीं किया जा सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें