scorecardresearch
 

टूरिज्म-ट्रांसपोर्ट सेक्टर को राहत, 600 अरब डॉलर का रिकॉर्ड विदेशी मुद्रा भंडार, RBI के ये हैं अहम ऐलान 

रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति ने ब्याज दरों में किसी तरह के बदलाव का ऐलान नहीं किया है. वहीं रिजर्व बैंक ने टूरिज्म और ट्रांसपोर्ट सेक्टर को कुछ राहत देने की कोशिश की है.

RBI गवर्नर ने किया मौद्रिक नीति समीक्षा का ऐलान (फाइल फोटो: PTI) RBI गवर्नर ने किया मौद्रिक नीति समीक्षा का ऐलान (फाइल फोटो: PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं
  • कई सेक्टर के लिए अहम ऐलान

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने अपनी हर दो महीने पर होने वाली मौद्रिक नीति समीक्षा का ऐलान शुक्रवार को किया. रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति ने ब्याज दरों किसी तरह के बदलाव का ऐलान नहीं किया है. वहीं रिजर्व बैंक ने टूरिज्म और ट्रांसपोर्ट सेक्टर को कुछ राहत देने की कोशिश की है. रिजर्व बैंक ने बताया है कि उसका विदेशी मुद्रा भंडार रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है. रिजर्व बैंक के आज के ऐलान की प्रमुख बातें इस प्रकार है: 

ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं 

 रिजर्व बैंक की मॉनिटरी पॉलिसी कमिटी के द्वारा ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया गया है. रेपो रेट को 4 फीसदी और रिवर्स रेपो रेट को 3.5 फीसदी पर बरकरार रखा गया है. इसका मतलब यह है कि लोगों के लोन ईएमआई पर भी कोई असर नहीं पड़ेगा और वे यथावत रहेंगी. 

टूरिज्म और ट्रांसपोर्ट सेक्टर को राहत 

कोरोना से बर्बाद हो चुके टूरिज्म एवं ट्रांसपोर्ट सेक्टर को सरकार ने कोई खास राहत अब तक नहीं दी है. लेकिन इन सेक्टर को अब रिजर्व बैंक के माध्यम से राहत देने की कोशिश की जा रही है. रिजर्व बैंक के गवर्नर कहा कि बैंकों के माध्यम से इन सेक्टर को राहत दी जाएगी. 

रिजर्व बैंक के गवर्नर ने कहा कि 15 हजार करोड़ रुपये की नकदी की व्यवस्था बैंकों को जाएगी. इससे बैंक होटल, टूर ऑपरेटर, रेस्टोरेंट, प्राइवेस बस, सलोन, एविएशन एंसिलियरी सेवाओं ऑपरेटर आदि को किफायती लोन दे सकेंगे. 

रिकॉर्ड विदेशी मुद्रा भंडार 

शक्तिकांत दास ने कहा कि रिजर्व बैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में सक्रियता से हिस्सा ले रहा है. महामारी से निपटने के लिए वित्तीय सिस्टम की मजबूती काफी महत्वपूर्ण है. दुनिया भर में परेशानी के बावजूद मुद्रा विनिमय दर स्थिर है. देश का विदेशी मुद्रा भंडार बढ़कर 598 अमेरिकी डॉलर के रिकॉर्ड स्तर तक पहुंच चुका है और हमें पूरी उम्मीद है कि अब यह अब 600 अरब डॉलर को पार कर गया है, हालांकि अभी आधिकारिक रूप से आंकड़े एक हफ्ते बाद आएंगे. 

इस साल 9.5 फीसदी रहेगी जीडीपी ग्रोथ 

रिजर्व बैंक ने अनुमान लगाया है कि वित्त वर्ष 2021-22 में जीडीपी ग्रोथ 9.5 फीसदी रह सकती है. यह आंकड़ा अच्छा है, लेकिन यह रिजर्व बैंक के पहले के 10.5 फीसदी के अनुमान से कम है. रिजर्व बैंक के गवर्नर ने कहा कि मॉनसून सामान्य रहने का अनुमान है और इसकी वजह से ग्रामीण मांग मजबूत रहेगी, जिसकी वजह से जीडीपी में काफी अच्छी बढ़त होने का अनुमान है. रिजर्व बैंक ने अनुमान लगाया है ​कि पहली तिमाही में 18.5 फीसदी, दूसरी तिमाही में 7.9 फीसदी, तीसरी तिमाही में 7.2 फीसदी और चौथी तिमाही में 6.6 फीसदी की बढ़त हो सकती है.

महंगाई 5.1 फीसदी पर 

भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि मौजूदा हालात को देखते हुए इस साल यानी वित्त वर्ष 2021-22 में कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स आधारित (खुदरा महंगाई)  5.1 फीसदी रह सकती है. उन्होंने कहा कि इस वित्त वर्ष की पहली तिमाही में खुदरा महंगाई 5.2 फीसदी, दूसरी तिमाही में 5.4 फीसदी, तीसरी तिमाही में 4.7 फीसदी और चौथी तिमाही में 5.3 फीसदी रह सकती है. 

MSME को 16000 करोड़ की सहायता 

शक्तिकांत दास ने कहा कि MSME को सहयोग देने के लिए रिजर्व बैंक SIDBI को 16,000 करोड़ रुपये की एक खास और अतिरिक्त नकदी सुविधा देगा. पहले भी ऐसी सुविधा दी गई थी. पहले इसके तहत 25 करोड़ रुपये की उधार लेने की सुविधा थी, जिसे बढ़ाकर 50 करोड़ रुपये कर दिया है. 


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें