scorecardresearch
 

LIC IPO: आईपीओ के इन्वेस्टर्स ने अब तक गंवाए 94 हजार करोड़ रुपये, आगे क्या?

एलआईसी के आईपीओ के लिए 902-949 रुपये का प्राइस बैंड (LIC IPO Price Band) तय किया गया था. पहले ही दिन एलआईसी के शेयर में 13 फीसदी तक की गिरावट आई थी और यह अंतत: 8.62 फीसदी यानी 81.80 रुपये गिरकर 867.20 रुपये पर सेटल हुआ था. इश्यू प्राइस की तुलना में अभी यह करीब 15 फीसदी से ज्यादा गिर चुका है.

X
लगभग हर रोज गिरा शेयर लगभग हर रोज गिरा शेयर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • लगातार गिरा एलआईसी के शेयर का भाव
  • आईसीआईसीआई बैंक से भी कम हुई वैल्यू

LIC Market Cap: सबसे बड़ा आईपीओ (Biggest IPO) लाने के बाद शेयर मार्केट (Share Market) में लिस्ट हुई सरकारी बीमा कंपनी एलआईसी (LIC) के हालात सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं. लिस्टिंग (LIC Share Listing) के बाद अब तक ज्यादातर सेशंस में एलआईसी के शेयर (LIC Share Price) नुकसान के साथ बंद हुए हैं. इसका खामियाजा एलआईसी के आईपीओ में पैसे लगाने वाले इन्वेस्टर्स (LIC IPO Investors) को उठाना पड़ रहा है. पिछले 14 ट्रेडिंग सेशन में एलआईसी का मार्केट कैप (LIC MCap) 94 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा कम हुआ है.

नए लाइफटाइम लो पर आया भाव

पिछले सप्ताह के अंतिम कारोबारी दिन शुक्रवार को एलआईसी का शेयर 800.05 रुपये के लेवल तक गिर गया, जो अब एलआईसी के शेयर का नया लाइफटाइम लो लेवल (LIC Share Lifetime Low) है. बाजार में लिस्ट होने के महज दो सप्ताह में एलआईसी शेयर का भाव 7.72 फीसदी यानी 67 रुपये गिर चुका है. इसके कारण एलआईसी का मार्केट कैप कम होकर 5,06,126 करोड़ रुपये पर पर आ गया है. आईपीओ के इश्यू प्राइस (LIC IPO Issue Price) के अपर बैंड के हिसाब से एलआईसी की वैल्यू 6,00,242 करोड़ रुपये थी. इसका मतलब हुआ कि इसके आईपीओ में पैसे लगाने वाले इन्वेस्टर्स के 94,116 करोड़ रुपये अब तक डूब चुके हैं.

अब तक इतना गिर चुका LIC Stock

एलआईसी के आईपीओ के लिए 902-949 रुपये का प्राइस बैंड (LIC IPO Price Band) तय किया गया था. पहले ही दिन एलआईसी के शेयर में 13 फीसदी तक की गिरावट आई थी और यह अंतत: 8.62 फीसदी यानी 81.80 रुपये गिरकर 867.20 रुपये पर सेटल हुआ था. इश्यू प्राइस की तुलना में अभी यह करीब 15 फीसदी से ज्यादा गिर चुका है. एलआईसी पहले ही आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) से पिछड़कर सातवें नंबर की कंपनी बन गई है. लिस्टिंग के बाद एलआईसी बीएसई (BSE) की पांचवीं सबसे बड़ी कंपनी बनी थी.

ब्रोकरेज फर्म ने दिया ये टारगेट प्राइस

इस बीच ब्रोकरेज फर्म Emkay Global ने एलआईसी की कवरेज शुरू कर दी है. फर्म ने एलआईसी को होल्ड रेटिंग (Hold Rating) के साथ 875 रुपये का टारगेट प्राइस दिया है. अगर Emkay Global का अनुमान सही निकला तो इसका अर्थ ये हुआ कि लंबे समय तक एलआईसी के आईपीओ में पैसे लगाने वाले इन्वेस्टर्स घाटे से नहीं उबर पाएंगे. ब्रोकरेज फर्म ने एलआईसी को एक ऐसा हाथी करार दिया, जो डांस नहीं कर सकता. 

इन्वेस्टमेंट से हुई इतने हजार करोड़ की कमाई

इससे पहले कंपनी ने मंगलवार को बताया कि उसने 2021-22 में स्टॉक मार्केट के अपने इन्वेस्टमेंट से 42,000 करोड़ रुपये का प्रॉफिट बुक (LIC Profit Booking) किया. यह साल भर पहले के 36,000 करोड़ रुपये के प्रॉफिट से ज्यादा है. कंपनी के मैनेजिंग डाइरेक्टर राज कुमार (LIC MD Raj Kumar) ने बताया था कि एलआईसी अभी करीब 42 ट्रिलियन रुपये की संपत्ति का प्रबंधन कर रही है और देश की सबसे बड़ी एसेट मैनेजर (Asset Manager) है. इसके अलावा एलआईसी घरेलू शेयर बाजार की सबसे बड़ी इन्वेस्टर भी है. कंपनी कपनी संपत्तियों का करीब 25 फीसदी हिस्सा शेयर बाजार में लगाती है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें