scorecardresearch
 

कोरोना संकट के बीच जून तिमाही में चीन से भारत के व्यापार घाटे में आई भारी गिरावट

जून तिमाही में चीन से व्यापार घाटा सिर्फ 5.48 अरब डॉलर रह गया. लॉकडाउन की वजह से कच्चे माल का आयात कम हुआ और सीमा पर जारी तनाव की वजह से सरकार ने देसी इंडस्ट्री को आत्मनिर्भर बनाने, चीन से आयात पर अंकुश लगाने के प्रयास तेज किये हैं.

चीन से व्यापार घाटे में कमी चीन से व्यापार घाटे में कमी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • चीन से व्यापार घाटे में कमी राहत की बात
  • कोरोना लॉकडाउन के बीच कम हुआ व्यापार घाटा
  • सरकार का दावा-आयात पर अंकुश से मिली मदद

चीन से होने वाले व्यापार में बढ़ता घाटा भारत सरकार के लिए चिंता की बात रही है. लेकिन यह राहत भरी खबर है कि कोरोना लॉकडाउन और सीमा पर जारी तनाव के बीच अप्रैल से जून की तिमाही में भारत के चीन से व्यापार घाटे में भारी गिरावट आई है. जून तिमाही में चीन से व्यापार घाटा सिर्फ 5.48 अरब डॉलर रह गया. 

ऐसा लगता है कि चीन से आयात पर अंकुश लगाने का सरकार का प्रयास सफल रहा है. वैसे इसकी एक प्रमुख वजह यह हो सकती है कि कोरोना संकट की वजह से जून तिमाही में भारतीय उद्योगों ने उत्पादन ठप रखा और कच्चे माल का आयात कम किये. सीमा पर जारी तनाव की वजह से सरकार ने देसी इंडस्ट्री को आत्मनिर्भर बनाने और चीन से आयात पर अंकुश लगाने के प्रयास तेज किये हैं, जिसका असर अगली तिमाही में ज्यादा दिखेगा.

कितना कम हुआ व्यापार घाटा 

भारत और चीन के बीच व्यापार घाटा इस वित्त वर्ष की पहली यानी जून की तिमाही में कम होकर 5.48 अरब डॉलर हो गया जो पिछले साल इसी अवधि में 13.1 अरब डॉलर था. लोकसभा में वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने एक प्रश्न के लिखित जवाब में कहा कि दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय व्यापार भी 2020-21 के पहले तीन महीने में कम होकर 16.55 अरब डॉलर रह गया जो पिछले साल इसी अवधि में 21.42 अरब डॉलर था.

उन्होंने बताया,  'सरकार ने चीन को निर्यात बढ़ाकर और चीन से आयात पर हमारी निर्भरता कम करके उसके साथ व्यापार संतुलन के लिए लगातार कदम उठाये हैं.' 

सीमा पर तनाव से और कम होगा व्यापार 

गौरतलब है कि इस साल जून महीने में सीमा पर झड़प में हमारे देश के 20 वीर जवान शहीद हो गये थे, जिसके बाद देश में चीन विरोधी माहौल बन गया था. इसके बाद सरकार ने देसी कारोबारियों को आत्मनिर्भर बनाने और चीनी आयात पर अंकुश लगाने के प्रयास शुरू किये. चीन से निवेश पर भी सख्ती कायम करने के लिए एफडीआई नियमों में बदलाव किया गया. 

अगस्त में घटा है आयात-निर्यात 
गौरतलब है कि अगस्त महीने में देश के समूचे निर्यात और आयात में गिरावट दर्ज की गई है. मंगलवार को जारी आंकड़ों के अनुसार अगस्त महीने में निर्यात में 12.66 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई. इससे भारत का निर्यात अगस्त में गिरकर 22.7 अरब डॉलर पर आ गया. देश के निर्यात में इस तरह लगातार छठे महीने गिरावट दर्ज की गई है. इसी तरह अगस्त के आयात में 26 फीसदी की गिरावट आई है, जिससे यह 29.47 अरब डॉलर रहा. इस तरह अगस्त में 6.77 अरब डॉलर का व्यापार घाटा देश को हुआ है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें