scorecardresearch
 

फॉरेन इन्वेस्टर्स का हुआ मोहभंग, ढाई महीने में शेयर बाजार से निकाले इतने हजार करोड़

विदेशी निवेशकों का देसी शेयर बाजार को लेकर मोहभंग हो रहा है. अक्टूबर के बाद से वह लगातार मार्केट से पैसा निकाल रहे हैं और इससे सेंसेक्स और निफ्टी की बढ़त पर भी लगाम लगी है. सिर्फ ढाई महीने में ही उन्होंने कई हजार करोड़ रुपये के शेयर बेचे हैं.

X
फॉरेन इन्वेस्टर्स का हुआ मोहभंग फॉरेन इन्वेस्टर्स का हुआ मोहभंग
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अब तक कुल निवेश किया 31,792 करोड़ का
  • ढाई महीने में सेंसेक्स गिरा 1,200 अंक से ज्यादा
  • Omicron ने बढ़ाई ग्लोबल मार्केट की चिंता

विदेशी निवेशकों का देसी शेयर बाजार को लेकर मोहभंग हो रहा है. अक्टूबर के बाद से वह लगातार मार्केट से पैसा निकाल रहे हैं और इससे सेंसेक्स और निफ्टी की बढ़त पर भी लगाम लगी है. सिर्फ ढाई महीने में ही उन्होंने कई हजार करोड़ रुपये के शेयर बेचे हैं.

नेशनल सिक्योरिटीज डिपॉजिटरी लिमिटेड (NSDL) के आंकड़ों के मुताबिक अक्टूबर 2021 से अब तक विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FII) ने 32,000 करोड़ रुपये के शेयर बेचे हैं. बढ़ती महंगाई के बीच विदेशी निवेशकों की निकासी से शेयर बाजार की तेजी पर लगाम लगी है.

चालू वित्त वर्ष में निकाले इतने रुपये
अब तक चालू वित्त वर्ष में विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने नेट 23,950 करोड़ रुपये की निकासी की है. जबकि आज की तारीख तक उनका कुल निवेश 31,792 करोड़ रुपये रहा है. 

बीते ढाई महीने में शेयर बाजार तेजी से नीचे आया है. अक्टूबर में सेंसेक्स (Sensex) ने 61,000 अंक तक का आंकड़ा छुआ था लेकिन उसके बाद से इसमें लगातार गिरावट जारी है. 30 सितंबर से 16 दिसंबर के बीच ये 1,225 अंक यानी 2.07% गिरकर 59,126.36 अंक से 51,901 अंक पर आ गया.  जबकि निफ्टी (Nifty) 369.75 अंक यानी 2.10 प्रतिशत टूटकर 17,248.40 अंक पर रहा है.

क्यों कर रहे विदेशी निवेशक बिकवाली
शेयर बाजार में विदेशी निवेशकों की बिकवाली के बारे में रेलिगेयर ब्रोकिंग में वाइस प्रेसिडेंट-रिसर्च अजित मिश्रा का कहना है कि घरेलू और वैश्विक स्तर पर उभरती चिंताओं के चलते FII ने इंडियन शेयर मार्केट में बिकवाली तेज की है. ग्लोबल लेवल पर कोरोना के नए वैरिएंट Omicron और अमेरिका में महंगाई बढ़ने के चलते फेडरल रिजर्व बैंक के ब्याज दर बढ़ाने की संभावना के चलते चिंता बढ़ी है. दूसरे ओर कंपनियों की कम कमाई ने भी निवेशकों के बीच धारणा कमजोर की है.

ये भी पढ़ें: 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें