scorecardresearch
 

ऑक्सीजन पर मदद के लिए कॉरपोरेट आया आगे, रिलायंस-टाटा समेत कई कंपनियों ने की पॉजिटिव पहल 

 रिलायंस, टाटा स्टील, सेल, जिंदल स्टील ने कोविड के इलाज के लिए ऑक्सीजन की सप्लाई शुरू कर दी है. वहीं सहकारी ​समिति IFFCO ऑक्सीजन के प्लांट लगा रही है जहां से अस्पतालों को मुफ्त ऑक्सीजन की सप्लाई होगी.

ऑक्सीजन सप्लाई के लिए कॉरपोरेट ने की पहल (फाइल फोटो: PTI) ऑक्सीजन सप्लाई के लिए कॉरपोरेट ने की पहल (फाइल फोटो: PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • देशभर में है मेडिकल Oxygen की किल्लत
  • मदद के लिए कॉरपोरेट जगत की पहल

कोविड-19 के इलाज में ऑक्सीजन की किल्लत को दूर करने के लिए अब निजी और सरकारी कंपनियों ने पॉजिटिव पहल की है. रिलायंस, टाटा स्टील, सेल, जिंदल स्टील ने कोविड के इलाज के लिए ऑक्सीजन की सप्लाई शुरू कर दी है. वहीं सहकारी ​समिति IFFCO ऑक्सीजन के प्लांट लगा रही है जहां से अस्पतालों को मुफ्त ऑक्सीजन की सप्लाई होगी.  

गौरतलब है कि कोविड-19 के गंभीर हालत वाले मरीजों के इलाज के लिए मेडिकल ऑक्सीजन बहुत जरूरी है और इसकी देशभर में भारी किल्लत चल रही है. 

टाटा स्टील ने  सप्लाई शुरू की

टाटा ग्रुप की स्टील कंपनी टाटा स्टील रोज 200 से 300 टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन की सप्लाई कर रही है. रविवार को कंपनी ने ट्वीट कर कहा कि राष्ट्र की आवश्यकता को देखते हुए हमने ऑक्सीजन की सप्लाई शुरू कर दी है. यह सप्लाई विभिन्न राज्य सरकारों और अस्पतालों में की जा रही है. 

रिलायंस ने महाराष्ट्र सरकार को दिए ऑक्सीजन 

इसके पहले रिलायंस इंडस्ट्रीज ने महाराष्ट्र सरकार को 100 टन ऑक्सीजन भेजे हैं. कुछ दिनों पहले रिलायंस इंडस्ट्रीज ने गुजरात के अपने प्लांट से 100 टन ऑक्सीजन महाराष्ट्र सरकार को भेजी थी. मुकेश की अंबानी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) जामनगर में स्थित अपनी दो तेल रिफाइनरियों से महाराष्ट्र में ट्रकों से 100 टन ऑक्सीजन पहुंचाई है. 

IFFCO लगा रहा ऑक्सीजन प्लांट 

उर्वरक का उत्पादन और बिक्री करने वाली सहकारी समिति IFFCO ने कोरोना संकट के बीच देश में ऑक्सीजन (Oxygen) की किल्लत को देखते हुए एक अच्छी पहल की है. IFFCO गुजरात के कलोल स्थित अपने कारखाने में 200 क्यूबिक मीटर प्रति घंटे की उत्पादन क्षमता वाला एक ऑक्सीजन प्लांट लगा रहा है. IFFCO यह ऑक्सीजन अस्पतालों को म़ुफ्त में देगा. इस कारखाने से तैयार होने वाले एक ऑक्सीजन सिलेंडर में 46.7 लीटर ऑक्सीजन होगी. 

सेल ने 33 हजार टन ऑक्सीजन सप्लाई की

देश की सबसे बड़ी स्टील निर्माता कंपनी स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया यानी सेल करीब 33 हजार टन ऑक्सीजन की सप्लाई कर चुकी है. कंपनी ने कहा है कि इस ऑक्सीजन का इस्तेमाल कोरोना से प्रभावित मरीजों के इलाज के लिए हुआ है. सेल ने कहा कि इस ऑक्सीजन की सप्लाई बोकारो (झारखंड), भिलाई (छत्तीसगढ़), राउरकेला (ओडिशा), दुर्गापुर और बुर्नपुर (पश्चिम बंगाल) के स्टील प्लांटों से की गई है. 

जिंदल स्टील भी कर रही सप्लाई 

जिंदल स्टील प्राइवेट लिमिटेड (JSPL) भी रोज अपने अंगुल (ओडिशा) और रायगढ़ (छत्तीसगढ़) के प्लांट से 50 से 100 टन की आपूर्ति कर रही है.आर्सेलर मित्तल निप्पोन स्टील इंडिया (AMNS इंडिया) ने कहा है कि वह रोजाना 200 टन मेडिकल ऑक्सीजन की सप्लाई कर रही है. यह ऑक्सीजन गुजरात की हेल्थ एजेंसियों को दी जा रही है.

गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने अस्पतालों में ऑक्सीजन सप्लाई बढ़ाने के लिए उद्योगों को ऑक्सीजन देने पर रोक लगा दी है. केंद्र सरकार की तरफ से रविवार शाम को जारी आदेश के मुताबिक, अब केवल 9 जरूरी इंडस्ट्रीज को ही ऑक्सीजन सप्लाई जारी रहेगी. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें