scorecardresearch
 

Budget 2022: उधार से चलेगा घर, खर्चे पूरे करने के लिए अगले साल इतना कर्ज उठाएगी मोदी सरकार!

मोदी सरकार को वित्त वर्ष 2022-23 में अपने खर्च पूरे करने के लिए बाजार से कई लाख करोड़ रुपये का उधार लेना होगा. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 1 फरवरी को देश का आम बजट पेश किया, जिससे ये जानकारी सामने आई है.

X
उधार से चलेगा घर (File Photo : Getty) उधार से चलेगा घर (File Photo : Getty)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कोरोना काल ने बढ़ाया सरकार का खर्च
  • 2 लाख करोड़ ज्यादा कर्ज उठाने का अनुमान

मोदी सरकार ने अगले वित्त वर्ष के लिए आम बजट पेश कर दिया है. इसके हिसाब से सरकार की आमदनी कम है, जबकि खर्च अधिक और अगले वित्त वर्ष में इन खर्चों को पूरा करने के लिए सरकार को बाजार से कई लाख करोड़ रुपये का कर्ज उठाना होगा.

कोरोना काल ने बढ़ाया खर्च
बजट दस्तावेज के मुताबिक वित्त वर्ष 2022-23 में खर्चों को पूरा करने के लिए सरकार बाजार से 11.6 लाख करोड़ रुपये का कर्ज उठाएगी. कोरोना काल में अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान पहुंचा है और इसे संबल प्रदान करने के लिए सरकार का खर्च भी बढ़ा है. ऐसे में अगले साल के खर्च के लिए सरकार को बाजार से ये कर्ज लेना होगा.

चालू वित्त वर्ष के अनुमान से ज्यादा
चालू वित्त वर्ष के बजट में सरकार ने बाजार से 9.7 लाख करोड़ रुपये के कर्ज जुटाने का अनुमान लगाया था. हालांकि बजट 2022 के दस्तावेजों के हिसाब से वित्त वर्ष 2021-22 के लिए इसका संशोधित अनुमान अब 8.75 लाख करोड़ रुपये रहा गया है.
हालांकि सरकार ने अगले वित्त वर्ष के लिए जितनी उधारी जुटाने का अनुमान रखा है, वो चालू वित्त वर्ष के लिए रखे गए बजट अनुमान से भी 2 लाख करोड़ रुपये अधिक है. सरकार को वित्त वर्ष 2022-23 में खर्च पूरा करने के लिए 11,58,719 करोड़ रुपये की उधारी उठानी होगी.

बजट दस्तावेज के मुताबिक अगले वित्त वर्ष में सरकार का सकल कर्ज भी 14.95 लाख करोड़ रुपये रहने वाला है. जबकि पिछले साल के बजट में चालू वित्त वर्ष के लिए ये अनुमान 12.05 लाख करोड़ रुपये रखा गया था. वहीं 2021-22 के लिए इसका संशोधित अनुमान 10.46 लाख करोड़ रुपये है.

ये भी पढ़ें: 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें