scorecardresearch
 
ऑटो न्यूज़

कबाड़ की बाइकों के संग हुई ऐसी करामात, खड़े हो गए विशालकाय रोबोट

कबाड़ की मोटरसाइकिल से बनाए रोबोट
  • 1/8

अक्सर हम कबाड़ को बेचकर कुछ पैसे बना लेते हैं. लेकिन हुनरमंदों के लिए हर एक चीज काम की होती है. तभी तो कुछ लोगों ने कबाड़ की मोटरसाइकिलों से रोबोट की शानदार रेप्लिका तैयार करके दिखाई हैं... देखें उनकी कारीगिरी की ये तस्वीरें...
(All Photos : Getty)

इंडोनेशिया के कारीगरों का कमाल
  • 2/8

दरअसल ये करिश्मा इंडोनेशिया का है. यहां के योग्यकर्ता प्रांत के बांतुल में कुछ कारीगरों ने मिलकर एक आर्ट स्टूडियो Er Studio Art खोला है, जहां इन कबाड़ की मोटरसाइकिल से रोबोट रेप्लिका तैयार होते हैं.

‘आपदा में अवसर’ की कहानी
  • 3/8

कबाड़ की मोटरसाइकिल से रोबोट की प्रतिकृतियां बनाने की ये कहानी दरअसल कोरोना की ‘आपदा में अवसर’ तलाशने की कहानी है. कोविड-19 ने ही Er Studio Art में इस इनोवेशन की शुरुआत की.
 

पहले करते थे स्टेज डेकोरेशन का काम
  • 4/8

Er Studio Art के वर्कर्स रोबोट रेप्लिका बनाने से पहले पेंटिंग और स्टेज डेकोरेशन का काम किया करते थे. लेकिन कोरोना महामारी में उन्होंने अपने इस काम को नया मोड़ दिया.

जर्मनी से लेकर चीन तक मांग
  • 5/8

इंडोनेशिया में कबाड़ की मोटरसाइकिल से निकलने वाले पार्ट्स से तैयार होने वाले इन रोबोट रेप्लिका की सेल सिर्फ इंडोनेशिया में ही नहीं हो रही है. बल्कि उनके पास चीन और जर्मनी तक से ऑर्डर आ रहे हैं.

5 मोटरसाइकिल से बनता एक रोबोट
  • 6/8

Er Studio Art में एक स्टैंडिंग रोबोट रेप्लिका बनाने के लिए 5 पुरानी कबाड़ वाली मोटरसाइकिल का इस्तेमाल होता है. इतना ही नहीं इसे बनाने में भी पूरा एक महीना तक लग जाता है.

इतनी है एक रोबोट की प्राइस
  • 7/8

3 मीटर की ऊंचाई वाले एक रोबोट रेप्लिका की कीमत इंडोनेशियाई रुपये में 6 करोड़ (करीब 3.11 लाख भारतीय रुपये) है. बाकी इससे ऊंचे रोबोट की कीमत और ज्यादा हो सकती है.

भारत में भी आई कबाड़ नीति
  • 8/8

भारत ने भी हाल में पुरानी गाड़ियों के लिए कबाड़ नीति लॉन्च की है. अभी इसका लक्ष्य देश को सर्कुलर इकोनॉमी बनाने की दिशा में आगे बढ़ाना है. लेकिन क्या पता भविष्य में अपने देश के कारीगर भी इस तरह के कारनामे से पूरी दुनिया में अपना नाम रोशन करें...