scorecardresearch
 

खेती करके पा सकते हैं दो लाख तक का पुरस्कार, किसानों को सरकार देती है ये अवॉर्ड्स

किसान फिर से खेती की तरफ रूख करें, इसके लिए केंद्र सरकार और कई निजी संस्थाएं जो कृषि की बेहतरी के लिए कार्य कर रही हैं, वह किसानों को प्रोत्साहित करने के लिए समय-समय पर पुरस्कार भी देती हैं.

Image Credit: ICAR Image Credit: ICAR
स्टोरी हाइलाइट्स
  • किसानों को प्रोत्साहित करने के लिए दिए जाते हैं अवॉर्ड्स
  • उत्कृष्ट किसानी के महिंद्रा समूह भी देती है अवॉर्ड

भारत एक कृषि प्रधान देश है. देश की लगभग 50 प्रतिशत के ऊपर की आबादी खेती पर निर्भर है. पिछले कुछ सालों में देखा गया है खेती में लगातार नुकसान होने की वजह से किसान इससे किनारा करते हुए नजर आ रहे हैं. ऐसे में किसान फिर से खेती की तरफ रूख करें, इसके लिए केंद्र सरकार और  कई निजी संस्थाएं जो कृषि की बेहतरी के लिए कार्य कर रही है, वह किसानों को प्रोत्साहित करने के लिए समय-समय पर पुरस्कार भी देती हैं.

उत्कृष्ट खेती के लिए किसानों को ICAR की तरफ से मिलते हैं ये पुरस्कार

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद( ICAR- https://icar.org.in/) की कृषि क्षेत्र के लिए काम करने वाली अग्रणी संस्था है. खेती-किसानी से जुड़ी नई नीतियां, नई-नई तकनीके और फसलों को लेकर ज्यादातर फैसले यहीं होते हैं. इसके अलावा संस्था हर साल किसानी में उत्कृष्ट कार्य करने वाले किसानों को प्रोत्साहित भी करती है. जानिए आईसीआर हर साल किसानों को किन पुरस्कारों के लिए नामांकित करती है.

जगजीवनराम अभिनव किसान पुरस्कार/ जगजीवनराम नवप्रर्वतक किसान पुरस्कार

खेती में नए तकनीक का प्रयोग कर अपनी आय बढ़ाने वाले किसानों को लिए राष्ट्रीय स्तर पर 3 पुरस्कार हर साल दिए जाते हैं. पुरस्कार में एक लाख रुपये नकद राशि के साथ, प्रशस्ति पत्र तथा मेमेंटो भी दिया जाता है. साथ ही पुरस्कार विजेता किसान द्वारा अपने अनुसंधान का प्रचार-प्रसार सही तरह से कर सके इसके लिए भी समान राशि दी जाती है. 

एन.जी.रंगा किसान पुरस्कार

किसानों को विविध प्रकार की खेती के लिए एन.जी.रंगा किसान पुरस्कार का स्थापना की गई थी. इस पुरस्कार के अंतर्गत किसानों को स्मृति चिह्न और प्रशस्ति पत्र के अतिरिक्त एक लाख रुपये का इनाम दिया जाता है.

हलधर जैविक कृषि पुरस्कार

जैविक किसानों के उत्कृष्ट योगदान के लिए हलधर जैविक किसान पुरस्कार दिया जाता है. साथ ही एक लाख रुपये  भी दिए जाते हैं लेकिन ये पुरस्कार उन्हीं किसानों को मिलता है, जिनके पास जैविक प्रमाणीकरण संस्था की तरफ से प्रमाणपत्र है और जैविक कृषि में 5 वर्ष का अनुभव रखता है.

पंडित दीनदयाल उपाध्याोय अंत्योसदय कृषि पुरस्कार

खेती का लाभ ज्यादा से ज्यादा किसान उठा सके इसके लिए हेतु सीमांत, लघु एवं भूमिहीन किसानों के योगदानों को मान्येता देने  के लिए पंडित दीनदयाल उपाध्यानय अंत्योरदय कृषि पुरस्कार  वार्षिक दिया जाता है. इसके अंतर्गत भी किसान को  स्मृति चिह्न और प्रशस्ति पत्र के अतिरिक्तग एक लाख रुपये  तीन पुरस्कार वार्षिक रूप से दिए जाने का प्रावधान है.

बेहतर किसानी के महिंद्रा समूह भी देती है अवॉर्ड

महिंद्रा समूह की तरफ से भी खेती को लगातार बढ़ावा देने और नवीव प्रयोगों के लिए हर साल महिंद्रा समृद्धि भारत कृषि अवार्ड्स की तहत राष्ट्रीय और क्षेत्रीय स्तर पर पुरस्कार देती है. जिसमें कृषक सम्राट( पुरूष श्रेणी), कृषि प्रेरणा सम्मान( महिला), कृषि युवा सम्मान( युवा) दिया जाता है. राष्ट्रीय स्तर पर इन पुरस्कारों के अंतर्गत 2.11 लाख और क्षेत्री स्तर 51 हजार की राशि तय की गई है.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें