scorecardresearch
 

Afghanistan में भारी भरकम निवेश करने वाले भारत के पास अब क्या हैं विकल्प? देखें

Afghanistan में भारी भरकम निवेश करने वाले भारत के पास अब क्या हैं विकल्प? देखें

करीब 20 साल बाद तालिबान एक बार फिर अफगानिस्तान की सत्ता में लौट रहा है. अमेरिका 20 साल तक अफगानिस्तान में रहा लेकिन उसके हटने के 10 दिन बाद ही तालिबान फिर वहीं पहुंच गया जहां से वो भागा था. अमेरिका के जाते ही इस तरह अफगानिस्तान बिखर जाएगा, किसी ने कल्पना नहीं की थी. तालिबान ने लगभग पूरे अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद काबुल पर अपना शिकंजा कस लिया है. अब अफगानिस्तान पर पूरी तरह से तालिबान का राज है, बस औपचारिक ऐलान और तालिबानी सरकार बनना बाकी है. अफगानिस्तान का आज और आने वाला कल अब तालिबान के हाथों में हैं जिसके बाद अब अफगानिस्तान का भविष्य तो खतरे में है ही साथ ही अफगानिस्तान में भारत का भारी-भरकम निवेश भी अब खतरे में आ गया है. तालिबान को अबतक कभी भी आधिकारिक मान्यता नहीं देने वाले भारत के पास अब विकल्प क्या हैं ? देखिए ये रिपोर्ट.

The Taliban have now taken control over the majority of areas in Afghanistan including the capital and the largest city- Kabul. The Taliban is set to return to power in Afghanistan once again after 20 years. India has heavily invested in Afghanistan in the last 20 years. Now the biggest question is, what option India has as the Taliban takes over Afghanistan? Watch this report.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें