scorecardresearch
 

Pakistan की 'जेहादी यूनिवर्सिटी', जहां मिलती है दहशतगर्दी की डिग्री

Pakistan की 'जेहादी यूनिवर्सिटी', जहां मिलती है दहशतगर्दी की डिग्री

दुनिया भर में आतंक के पीछे मुख्य रूप से पाकिस्तान का ही हाथ है. पाकिस्तान में दहशतगर्दी की खुली छुट है. और सरकार भी इसकी पहल करती है. तालिबान और अल-कायदा ने एक दूसरे से वफादारी की कसमें खा रखी हैं. तालिबान ने जब अफगानिस्तान पर दूसरी बार कब्जा किया तो सब कोई चौंक गया. लेकिन, जब कैबिनट का विवरण हुआ तो दुनिया के कान खड़े हो गए. तालिबान की कैबिनेट में मोस्ट वांटेड इंटरनेशनल आतंकियों से मिलकर बनी है. चाहे उसमें संयुक्त राष्ट्र के ग्लोबल आतंकियों में शामिल अफगानिस्तान के प्रधानमंत्री मुल्ला मुहम्मद हसन हो या डिप्टी पीएम मुल्ला बरादर. तालिबान की इस आतंकी कैबिनेट के 5 मंत्री ऐसे हैं, जो पाकिस्तान के हक्कानी मदरसे से पढ़कर निकले हैं. देखें वीडियो.

Pakistan plays a huge role in global terrorism, but they never admit this. Taliban overrule Afghanistan and formed a new government. Lives in Afghanistan are now regulated under Holy Sharia. Taliban cabinet looks like a most-wanted list. As all designated terrorists are induced. Mullah Abdul Latif Mansoor, Maulana Abdul Baki, Najibullah Haqqani, Maulana Noor Mohammad, and Abdul Hakim Sahrai who are in cabinet, they studied in Madarsa of Haqqani network in Pakistan. Watch the video to know more.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें