scorecardresearch
 

जाकिर नाईक के प्रत्यर्पण के लिए नहीं तैयार मलेशियाई PM, कहा- हमारे पास है अधिकार

मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद एक बार फिर इस्लामिक प्रचारक जाकिर नाईक के समर्थन में आए हैं. जाकिर नाईक के प्रत्यार्पण पर महातिर मोहम्मद ने कहा कि अगर भारत में उन्हें उचित ट्रायल नहीं मिलता तो हम उसे प्रत्यर्पित नहीं करेंगे.

जाकिर नाईक (फाइल फोटो) जाकिर नाईक (फाइल फोटो)

मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद एक बार फिर इस्लामिक प्रचारक जाकिर नाईक के समर्थन में आए हैं. जाकिर नाईक के प्रत्यर्पण पर महातिर मोहम्मद ने कहा कि अगर भारत में उन्हें उचित ट्रायल नहीं मिलता तो हम उसे प्रत्यर्पित नहीं करेंगे.

मलेशिया मीडिया के मुताबिक, महातिर मोहम्मद ने कहा कि अगर इस्लामिक धर्मगुरू जाकिर नाईक को भारत में उचित ट्रायल नहीं मिलता तो हमारे पास अधिकार है कि हम उसे प्रत्यर्पित न करें. खबर के मुताबिक, खुद जाकिर नाईक का भी मानना है कि उसे भारत में निष्पक्ष ट्रायल नहीं मिलेगा.

बता दें कि कुछ दिन पहले जाकिर नाईक ने मलेशियाई प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद से मुलाकात की थी. लेकिन इस मुलाकात से एक दिन पहले ही शुक्रवार को मलेशिया के प्रधानमंत्री ने जाकिर नाईक को प्रत्यर्पित कर भारत भेजने से इनकार कर दिया था. महातिर ने कहा था कि जब तक जाकिर नाईक हमारे देश के लिए कोई दिक्कत खड़ी नहीं कर रहे हैं तब तक उनका प्रत्यर्पण नहीं किया जाएगा. जाकिर को मलेशिया की नागरिकता भी प्राप्त है.

बीते दिनों ऐसी खबरें आ रहीं थीं कि जाकिर को भारत लाया जा सकता है, लेकिन बाद में विदेश मंत्रालय ने साफ कर दिया था कि ये खबरें सही नहीं हैं. इसके बाद इंडिया टुडे से बातचीत में जाकिर ने अपनी गिरफ्तारी और भारत आने की खबरों को खारिज किया था.

गौरतलब है कि भारत ने जनवरी में मलेशिया सरकार से जाकिर नाईक को स्वदेश भेजने का औपचारिक अनुरोध किया था. जाकिर भारत में नफरत फैलाने वाले अपने भाषणों से युवाओं को आतंकवादी गतिविधयों के लिए उकसाने और मनी लॉन्ड्रिंग जैसे मामलों का आरोपी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें