scorecardresearch
 

परमाणु हथियारों पर US और उत्तर कोरिया की बातचीत फेल, ये है वजह

उत्तर कोरिया ने वार्ता टूटने पर वॉशिंगटन को जिम्मेदार ठहराया है. वहीं अमेरिका ने स्वीडन में हुई चर्चा को अच्छी करार देते हुए दो सप्ताह में फिर वार्ता शुरू करने का इरादा जाहिर किया है.

उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन (फोटोः AP/ PTI) उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन (फोटोः AP/ PTI)

  • वॉशिंगटन को बताया जिम्मेदार
  • अमेरिका ने जताया वार्ता का इरादा

उत्तर कोरिया ने अमेरिका के साथ परमाणु हथियारों को लेकर चल रही वार्ता तोड़ने का ऐलान कर दिया है. उत्तर कोरिया ने वार्ता टूटने पर वॉशिंगटन को जिम्मेदार ठहराया है. वहीं अमेरिका ने स्वीडन में हुई चर्चा को अच्छी करार देते हुए दो सप्ताह में फिर वार्ता शुरू करने का इरादा जाहिर किया है.

समाचार एजेंसी एएफपी के अनुसार उत्तर कोरिया के वार्ताकार किम म्योंग गिल ने शनिवार को स्वीडन के स्टॉकहोम में कहा कि वार्ता हमारी अपेक्षाओं को पूरी नहीं कर रही थी. उन्होंने इस पर निराशा जाहिर की. उत्तर कोरियाई दूतावास के बाहर पत्रकारों से बात करते हुए किम म्योंग ने कहा कि वार्ता टूटने के पीछे अमेरिका का अपने पुराने रुख में बदलाव नहीं करना वजह है.

उन्होंने कहा कि हमने दिसंबर तक वार्ता सस्पेंड करने का प्रस्ताव रखा है. किम ने कहा कि उत्तर कोरिया का रुख प्रैक्टिकल और रिजनेबल है. उन्होंने कहा कि वार्ता के दौरान हमने स्पष्ट कर दिया कि दोनों देश उत्तर कोरिया द्वारा परमाणु निरस्त्रीकरण की दिशा में कदम उठाने पर तभी चर्चा कर सकते हैं, जब अमेरिका पूर्व में उत्तर कोरिया द्वारा परमाणु और लंबी दूरी की मिसाइलों के परीक्षण स्थगित करने, अपने भूमिगत परमाणु परीक्षण केंद्र को बंद करने जैसे  उपायों पर ईमानदारी से जवाब देगा.

 ट्रंप और किम के शिखर सम्मेलन के बाद थी पहली वार्ता  

गौरतलब है कि फरवरी माह में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और उत्तर कोरिया के राष्ट्रपति किम जोंग उन के बीच वियतनाम में दूसरा शिखर सम्मेलन हुआ था. वियतनाम शिखर सम्मेलन इसलिए असफल हो गया था, क्योंकि ट्रंप ने किम जोंग उन के आंशिक निरस्त्रीकरण के बदले व्यापक परमाणु प्रतिबंधों से राहत देने की मांग को खारिज कर दिया था. दोनों नेताओं ने जून माह में कोरियाई सीमा पर संक्षिप्त मुलाकात की थी, जिसमें दोनों ने कूटनीतिक संबंधों की बहाली पर सहमति व्यक्त की थी. वियतनाम शिखर सम्मेलन के बाद शनिवार को हुई वार्ता अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच पहली वार्ता थी.

मोर्गन ऑर्टगस बोले, दो सप्ताह में होगी वार्ता

अमेरिकी गृह मंत्रालय के प्रवक्ता मोर्गन ऑर्टगस ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि किम का यह बयान आठ घंटे से अधिक समय तक हुई अच्छी वार्ता के कंटेंट को रिफ्लेक्ट नहीं करता. उन्होंने कहा कि अमेरिका ने स्वीडन द्वारा दो सप्ताह में स्टॉकहोम लौटने और वार्ता जारी रखने के निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है.

बता दें कि उत्तर कोरिया ने हाल ही में मिसाइल और अन्य हथियारों के परीक्षण का कार्यक्रम भी फिर से शुरू कर दिया था. उत्तर कोरिया ने बुधवार को अंडर वाटर मिसाइल का परीक्षण किया था. हालांकि जापान के अधिकार क्षेत्र वाले इकोनॉमिक जोन के समीप यह परीक्षण असफल रहा था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें