scorecardresearch
 

43 साल की महिला ने ली कोरोना वैक्सीन की पहली सूई, 6 हफ्ते तक रिसर्च करेंगे साइंटिस्ट

कोरोना वायरस का ये टीका अगर सफल भी हो जाता है तो भी बाजार में वैक्सीन को आने में 12 से 18 महीने लगेंगे. क्योंकि इस टीके का असर समझने में कई महीने लग सकते हैं. इस परीक्षण के लिए 18 से 55 साल के 45 स्वस्थ लोगों का चयन किया गया है. इन पर 6 हफ्ते तक टीके के असर का अध्ययन किया जाएगा.

जेनिफर हैलर नाम की महिला को कोरोना का टीका लगाता एक स्वास्थ्यकर्मी (फोटो- एपी) जेनिफर हैलर नाम की महिला को कोरोना का टीका लगाता एक स्वास्थ्यकर्मी (फोटो- एपी)

  • अमेरिका में कोरोना के वैक्सीन का पहला परीक्षण
  • 45 लोगों पर 45 दिन तक चलेगा रिसर्च
  • सफलतापूर्वक संक्रमण रोकने की चुनौती

अमेरिकी शोधकर्ताओं ने सोमवार को कोरोना वायरस के पहले टीके का पहला परीक्षण किया. अमेरिका के सियाटल में एक महिला को पहली बार कोरोना वैक्सीन की सूई दी गई.

सियाटल के रिसर्च इंस्टीट्यूट में एक चिकित्साकर्मी ने कोविड-19 का टीका एक महिला को लगाया. ये वैक्सीन दुनिया में रिकॉर्ड टाइम में विकसित किया गया है. चीन में इस बीमारी का पता चलने के बाद केपीडब्ल्यू रिसर्च इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिक इस वैक्सीन को विकसित करने में जी-जान से लगे थे.

हाल के कुछ महीनों में मानवता का दुश्मन बनकर उभरे इस बीमारी से बचने के लिए भारत समेत दुनिया भर के कई देशों में वैक्सीन विकसित किए जा रहे हैं. इस संस्थान की डॉक्टर लिजा जैक्सन ने परीक्षण से पहले कहा कि अब हम टीम कोरोना वायरस हैं. उन्होंने कहा कि इस आपातकाल में हर शख्स कुछ करना चाहता है जो वो कर सकता है.

पढ़ें- अलग देश कैलासा बसाने वाला नित्यानंद कोरोना पर बोला- शिव ने हमारी रक्षा की

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस कामयाबी के लिए अपने देश के डॉक्टरों की तारीफ की है. उन्होंने कहा है कि इसका क्लिनिकल ट्रायल शुरू किया जा चुका है, यब दुनियाभर में अबतक सबसे जल्दी विकसित किया गया टीका है. उन्होंने कहा कि अमेरिका इस बीमारी के खिलाफ एंटी वायरल और दूसरे थेरेपी भी विकसित करने के लिए तेजी से कदम बढ़ा रहा है.

अब तक 7000 से ज्यादा शिकार

बता दें कि कोरोना वायरस अबतक दुनिया भर में 7000 से ज्यादा लोगों को शिकार बन चुका है. चीन से निकली ये बीमारी दुनिया के 145 देशों में फैल चुकी है, लेकिन वैज्ञानिक इसका टीका नहीं विकसित कर पाए हैं.

मेरे लिए ये शानदार मौका

समाचार एजेंसी एसोसिएटेडे प्रेस ने बताया है कि कोविड-19 का पहला टीका जेनिफर हैलर नाम की एक महिला को दिया गया, जो कि एक टेक कंपनी में ऑपरेशन मैनेजर है.

43 साल की इस महिला ने कहा, "हम सभी असहाय महूसस कर रहे थे, ये कुछ करने के लिए मेरे पास शानदार मौका है. सूई लेने के बाद दो बच्चों की मां जेनिफर ने मुस्कुराते हुए कहा कि मैं शानदार महसूस कर रही हूं. इस महिला के अलावा तीन और लोगों को टीका दिया जाएगा.

पढ़ें- दिल्ली का पहला कोरोना मरीज ठीक, ऐसे मौत के वायरस से जीती जंग

अब वैज्ञानिक इस वैक्सीन के असर का अध्ययन कर रहे हैं. वैज्ञानिकों के सामने अब ये साबित करने की चुनौती है कि ये टीका सुरक्षित है और सफलतापूर्वक संक्रमण को रोक पाता है.

12 से 18 महीने का और इंतजार

हालांकि अगर ये परीक्षण सफल भी हो जाता है तो भी बाजार में वैक्सीन को आने में 12 से 18 महीने लगेंगे. क्योंकि इस टीके का असर समझने में कई महीने लग सकते हैं. इस परीक्षण के लिए 18 से 55 साल के 45 स्वस्थ लोगों का चयन किया गया है. इन पर 6 हफ्ते तक टीके के असर का अध्ययन किया जाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें