scorecardresearch
 

ट्रंप-किम की मुलाकात से चीन सबसे ज्यादा चिंतित, ये है वजह

एयर चाइना का विमान किम जोंग उन को लेकर सिंगापुर पहुंचा है. ये बताता है कि जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन मिलेंगे तो चीन वहां मौजूद न होकर भी मौजूद रहेगा. किम-ट्रंप मुलाकात में चीन के रोल को अमेरिका अच्छी तरह से समझता भी है.

किम जोंग उन और शी जिनपिंग किम जोंग उन और शी जिनपिंग

पूरी दुनिया की नजर इस समय सिंगापुर पर है. यहां कुछ ही घंटे में डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन की मुलाकात होनी है. लेकिन इस मुलाकात पर एक देश ऐसा है जो सबसे ज्यादा नजरें गड़ाए बैठा है. ऐसे में सवाल उठना लाजिमी है कि इस मुलाकात से चीन को क्या हासिल होगा?

दरअसल, चीन और उत्तर कोरिया लंबे वक्त से एक-दूसरे के करीब रहे हैं और ट्रंप-किम मुलाकात में पर्दे के पीछे चीन के रोल को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता. लेकिन कुछ एक्सपर्ट्स मान रहे हैं कि उत्तर कोरिया, चीन के प्रभाव से मुक्त होना चाहता है और ट्रंप और किम की मुलाकात अगर सफल रही तो किम ऐसा कर भी सकते हैं.

एयर चाइना का विमान किम जोंग उन को लेकर सिंगापुर पहुंचा है. ये बताता है कि जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन मिलेंगे तो चीन वहां मौजूद न होकर भी मौजूद रहेगा.

किम-ट्रंप मुलाकात में चीन के रोल को अमेरिका अच्छी तरह से समझता भी है.

सिंगापुर की इस अहम मुलाकात से पहले किम जोंग दो बार चीन जाकर वहां के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मिल चुके हैं. लेकिन जो उत्तर कोरिया चीन का परंपरागत सहयोगी रहा है वो कहीं ट्रंप से मुलाकात के बाद पाला तो नहीं बदल लेगा इस संभावना को भी नकारा नहीं जा रहा है.

कुछ विशेषज्ञों के मुताबिक ट्रंप को कुछ आकर्षक डील के ऑफर से किम ऐसा कर सकते हैं. इस डील में उत्तर कोरिया के परमाणु हथियार छोड़ने का वादा भी शामिल है, जिसके बदले में उसे अमेरिकी मदद मिल सकती है, ताकि चीन पर उसकी पूरी निर्भरता खत्म हो सके.

चीनी इतिहासकार शेन झिहुआ कहती हैं- उत्तर कोरिया कभी भी चीन पर भरोसा नहीं कर सका है और उसकी बदला लेने जैसी मानसिकता है. सबसे बुरा परिणाम यह हो सकता है कि अमेरिका, दक्षिण कोरिया और उत्तर कोरिया सब एक साथ हो जाएं और चीन को किनारे कर दिया जाए.

किम-ट्रंप मुलाकात जब होगी तो वहां किसी चीनी अधिकारी के होने की संभावना नहीं के बराबर है. मुलाकात में क्या हुआ, इसे बताने के लिए अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो पर निर्भर होना होगा.

ऑस्ट्रेलियाई डिफेंस स्ट्रैटजिस्ट हग वाइट भी कहते हैं- किम चीन के प्रभाव से आजादी चाहते हैं. हाल ही में रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव से मुलाकात और सीरियाई नेता बशर अल असद के उत्तर कोरिया दौरे की योजना बनाने की खबरें, किम की इस इच्छा को दिखाती है. लेकिन किसी भी दूसरे देश की तरह ही किम चीन और अमेरिका जैसे किसी ग्रेट पावर के प्रभाव से मुक्त रहना चाहते हैं और वह अपने इस मकसद की तरफ आगे भी बढ़ रहे हैं.

हालांकि अमेरिका अभी चीन के प्रभाव होने या न होने को लेकर ज्यादा कयास नहीं लगने देना चाहता. चीन लंबे समय से उत्तर कोरिया पर प्रभाव रखता रहा है. वास्तव में उत्तर कोरिया के गिने-चुने मित्र राष्ट्रों में चीन शामिल रहा है. लेकिन अब जब उत्तर कोरिया अपनी राजनीति और कूटनीति बदल रहा है, तो भविष्य में क्या होगा इसे कहना मुश्किल होगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें