scorecardresearch
 

थाईलैंड में मास शूटिंग, 34 लोगों को मारने के बाद हत्यारे ने खुद को मारी गोली, पत्नी-बच्चे को भी नहीं छोड़ा

थाईलैंड में एक चाइल्ड सेंटर में हुई मास शूटिंग में 30 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई. मरने वालों में बच्चे और व्यस्क दोनों शामिल हैं. स्थानीय न्यूज एजेंसी के मुताबिक, इस वारदात को अंजाम देने वाला एक पूर्व पुलिस अधिकारी है और उसने खुद को भी गोली मार ली है.

X

थाईलैंड में एक चाइल्ड सेंटर में हुई मास शूटिंग में कम से कम 34 लोगों की मौत हो गई है. इनमें बच्चे भी शामिल हैं. पुलिस प्रवक्ता ने बताया है कि ये गोलीबारी देश के पूर्वोत्तर प्रांत में हुई है. 

देश के नोंग बुआ लाम्फू प्रांत के एक चाइल्ड सेंटर में गुरुवार को हुई सामूहिक गोलीबारी में बच्चों समेत 30 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई. पुलिस के मुताबिक, मारे गए लोगों में बच्चे और व्यस्क दोनों शामिल हैं. वहीं न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, जिसने इस क्रूर घटना को अंजाम दिया है वो एक पूर्व पुलिस अधिकारी है. उसे कुछ समय पहले ही नौकरी से निकाला गया था. डिप्टी नेशनल पुलिस चीफ जनरल तोरसाक सुकविमोल ने बताया कि चाइल्ड सेंटर में हुए हमले में 34 लोग मारे जा चुके हैं, जिनमें से 22 बच्चे शामिल हैं. अल जज़ीरा के मुताबिक, इमरजेंसी सेवाओं को करीब साढ़े 12 बजे अलर्ट कर दिया गया. 

स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, 34 लोगों की हत्या करने के बाद आरोपी शख्स ने अपने बच्चे और पत्नी को भी गोली मार दी और उसके बाद खुद को गोली मार ली. बताया जा रहा है कि आरोपी खुद एक पूर्व पुलिस अधिकारी है. बताया गया था कि हमलावर बैंकॉक लाइसेंस की नंबर प्लेट की सफेद पिकअप में भाग गया था. पुलिस की ओर से कहा गया था कि अगर किसी ने इस नंबर की पिकअप गाड़ी देखी है तो 192 पर कॉल करके जानकारी दे. 

पीएम ने जारी किया अलर्ट

पुलिस के मुताबिक, मारे गए लोगों में बच्चे और व्यस्क दोनों शामिल हैं. वहीं न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, जिसने इस क्रूर घटना को अंजाम दिया है वो एक पूर्व पुलिस अधिकारी है. इस घटना के बाद थाईलैंड के प्रधानमंत्री ने सभी एजेंसियों को कार्रवाई करने और अपराधी को पकड़ने के लिए अलर्ट जारी कर दिया था. न्यूज एजेंसी के मुताबिक, थाईलैंड में लाइसेंसधारी बंदूकों की संख्या अन्य देशों की तुलना में अधिक है, लेकिन आधिकारिक आंकड़ों में बड़ी संख्या में अवैध हथियार शामिल नहीं हैं.

साल 2020 में हुई थी मास शूटिंग

इससे पहले ऐसी ही सामूहिक गोलीबारी साल 2020 में हुई थी, जिसमें प्रॉपर्टी डीलिंग से नाराज एक सैनिक ने 29 लोगों को गोलियों की भूनकर हत्या कर दी थी इसमें 57 लोग घायल हो गए थे, जो चार स्थानों पर फैले हुए थे.   

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें