scorecardresearch
 

मंगल पर भी चल रही धूल भरी आंधी, नासा के खोजी अभ‍ियान पर लगा विराम

आंधी-तूफान दिल्ली-एनसीआर में  ही नहीं, बल्क‍ि मंगल ग्रह पर भी उफान पर है. मंगल पर चल रही धूल भारी आंधी की वजह से नासा का 'ऑपर्च्युनिटी' रोवर भी स्लीप मोड में चला गया है. इसकी वजह से नासा के खोजी अभ‍ियान पर कुछ समय के लिए विराम लग गया है.

नासा का रोवर (File) नासा का रोवर (File)

आंधी-तूफान दिल्ली-एनसीआर में ही नहीं, बल्क‍ि मंगल ग्रह पर भी उफान पर है. मंगल पर चल रही धूल भारी आंधी की वजह से नासा का 'ऑपर्च्युनिटी' रोवर भी स्लीप मोड में चला गया है. इसकी वजह से नासा के खोजी अभ‍ियान पर कुछ समय के लिए विराम लग गया है.

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के मुताबिक सौर ऊर्जा से चलने वाला यह मानवरहित यान स्लीप मोड में चला गया है. इसकी वजह से उनकी चिंताएं काफी बढ़ गई हैं.

नासा ने बताया कि अचानक धूल भरी तेज आंधी चलने से मंगल पर सूर्य की किरणों का मार्ग अवरुद्ध हो गया है और करीब 1.4 करोड़ वर्ग मील (3.5 करोड़ वर्ग किलोमीटर)   इलाका धूल की चादर से ढक गया है.  

नासा की जेट प्रोपल्शन लेबोरेट्री में 'ऑपर्च्युनिटी' परियोजना के प्रबंधक जॉन कालास ने बताया कि ऑपर्च्युनिटी को मंगल ग्रह पर परसीवरेंस वैली नामक स्थान पर देखा गया है. यहां वह स्लीप मोड़ में पड़ा दिख रहा है.

उन्होंने कहा कि हमें आंधी खत्म होने का इंतजार है. हम सभी को इस बात की चिंता है लेकिन उम्मीद भी है कि आंधी खत्म हो जाएगी. इसके बाद रोवर फिर से हमसे संपर्क करने में सक्षम होगा.

सबसे पहले 30 मई को आंधी का पता चला था और हालिया दिनों में यह और भीषण होती गई है. रोबोटिक वाहन से आखिरी बार 10 जून को संपर्क हुआ था.

मंगल पर जीवन का पता लगाने के लिए ऑपर्च्युनिटी और स्पीरिट नामक दो रोबोटिक यानों को वर्ष 2003 में प्रक्षेपित किया गया था. एक साल बाद ये मंगल की धरती पर पहुंचे थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें