scorecardresearch
 

ह्यूस्टन में पहले सिख पुलिस अफसर की नम आंखों से विदाई, सड़क पर मारी गई थी गोली

अमेरिका के टेक्सास के पहले सिख अधिकारी संदीप धालीवाल की हत्या पर सिख समुदाय शोक में है. ट्रैफिक सिग्नल पर एक गाड़ी को रोकते वक्त एक शख्स ने उनपर हमला किया था. जिसमें गोली लगने से  सिख पुलिस अधिकारी संदीप धालीवाल की जान चली गई थी.

संदीप धालीवाल संदीप धालीवाल

  • हैरी काउंटी में गोली मारकर कर दी गई थी संदीप धालीवाल की हत्या
  • अंतिम विदाई में शामिल हुए हजारों लोग, 21 तोपों की दी गई सलामी

अमेरिका के टेक्सास के पहले सिख अधिकारी संदीप धालीवाल की हत्या पर सिख समुदाय शोक में है. ट्रैफिक सिग्नल पर एक हमले में मारे गए भारतीय-अमेरिकी सिख पुलिस अधिकारी का 2 अक्टूबर यानी बुधवार को अंतिम संस्कार किया गया. संदीप धालीवाल का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान और सिख रिति रिवाज के साथ किया गया. इस दौरान उन्हें 21 तोपों की सलामी दी गई.

हजारों की संख्या में लोगों ने नम आंखों से संदीप सिंह धालीवाल ने अंतिम विदाई दी.  बता दें कि ट्रैफिक सिग्नल पर एक गाड़ी को रोकते वक्त एक शख्स ने उनपर हमला किया था. जिसमें गोली लगने से  सिख पुलिस अधिकारी संदीप धालीवाल की जान चली गई थी.

पगड़ी और दाढ़ी में करते थे ड्यूटी

10 हजार सिखों की आबादी वाले हैरी काउंटी में धालीवाल (42) पहले भारतीय सिख डिप्टी थे. वह टेक्सास के एकमात्र ऐसे अधिकारी थे, जो अपनी पगड़ी और दाढ़ी के साथ ड्यूटी करते थे. सिंह बीते 10 साल से पुलिस विभाग में काम कर रहे थे. धालीवाल ने अमेरिका में दस साल पहले सिख डिप्टी के रूप में फोर्स ज्वॉइन की थी. वह पहले ऐसे सिख बने जिन्हें विभाग ने पेट्रोलिंग के दौरान धार्मिक पोशाक पहनने और दाढ़ी बढ़ाने की अनुमति दी थी.

भारत ने जताया दुख

गौरतलब है कि धालीवाल की मौत पर भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह समेत कई दिग्गजों ने शोक व्यक्त किया था. अमरिंदर सिंह ने ट्वीट कर कहा था कि संदीप सिंह धालीवाल की निर्मम हत्या से बहुत दुख हुआ. वह गर्व से सिख समुदाय का प्रतिनिधित्व करते थे और अमेरिका के पहले पगड़ीधारी पुलिस अफसर थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें