scorecardresearch
 

पेशावर की वारदात के बाद नवाज शरीफ ने जताया इरादा, 'पाकिस्तान में आतंक का करेंगे खात्मा'

पाकिस्तान के पेशावर में हुए खौफनाक वारदात के बारे में नवाज शरीफ ने बुधवार दोपहर कहा कि वे अपने देश में आतंक का खात्मा करके रहेंगे. उन्होंने पाकिस्तान में फांसी की सजा पर रोक खत्म किए जाने का ऐलान किया.

X
मोदी ने की शरीफ से बात मोदी ने की शरीफ से बात

पाकिस्तान के पेशावर में हुए खौफनाक वारदात के बारे में नवाज शरीफ ने बुधवार दोपहर कहा कि वे अपने देश में आतंक का खात्मा करके रहेंगे. उन्होंने पाकिस्तान में फांसी की सजा पर रोक खत्म किए जाने का ऐलान किया.

नवाज शरीफ ने कहा, 'सेना आतंक को खत्म करने में कामयाब रहेगी.' वारदात पर अफसोस जाहिर करते हुए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा, 'देश में इससे बड़ा आतंकी मंजर नहीं हो सकता है.'

पाकिस्तान के पेशावर में आतंकी हमले में मारे गए बच्चों को भारत के कई शहरों में श्रद्धांजलि दी गई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर बुधवार सुबह जम्मू-कश्मीर, राजस्थान, मध्य प्रदेश, दिल्ली, उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में स्कूली बच्चों ने 2 मिनट का मौन रखा. उधर, लोकसभा और राज्यसभा में पेशावर में मारे गए बच्चों को श्रद्धांजलि दी गई. आतंकी हमले के ख‍िलाफ लोकसभा में निंदा प्रस्ताव लाया गया, जिसे मंजूर कर लिया गया.

कई कंपनियों ने पेशावर के लिए रोकी उड़ान
पेशावर में आतंकियों की ओर से खून की होली खेलने के बाद इंटरनेशनल एयरलाइंस कंपनियों ने पेशावर के लिए उड़ानें रोक दी हैं. कंपनियों ने अपने इस फैसले के बाबत सिविल एविऐशन अथॉरिटी को अवगत करा दिया है.

पाकिस्तान के पेशावर में आतंक का जो वीभत्स चेहरा दिखा, उसने पूरी दुनिया को झकझोर कर रख दिया है. आतंकियों ने स्कूल में घुसकर 100 से ज्यादा स्कूली बच्चों के खून से होली खेली. इस हमले की जिम्मेदारी तहरीक-ए-तालिबान नाम के संगठन ने ली है. पाकिस्तान का दर्द साझा करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार रात को पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से फोन पर बात की और गहरी संवेदना प्रकट की. उधर, शरीफ ने पेशावर हमले के मद्देनजर बुधवार को सवर्दलीय बैठक बुलाई है.

मोदी ने ट्विटर के जरिए इस बातचीत का ब्यौरा दिया. उन्होंने देश के सभी स्कूलों से अपील की है कि वे बुधवार को ‘एकजुटता प्रकट करते हुए’ दो मिनट का मौन रखें. मोदी ने ट्वीट्स किएः




प्रधानमंत्री ने शरीफ से कहा, ‘इस भयावह त्रासदी ने दुनिया की चेतना को झकझोर दिया है और साझा दर्द और दुख की यह घड़ी दोनों देशों और मानवता में विश्वास करने वालों के लिए यह आह्वान है कि वे आतंकवाद को निर्णायक ढंग से और पूरी तरह पराजित करने के लिए हाथ मिलाएं ताकि पाकिस्तान, भारत और दूसरी जगहों पर बच्चों का भविष्य आतंकवाद के साये के कारण अंधकार में न पड़े.’

पेशावर के वरसाक रोड स्थित आर्मी पब्लिक स्कूल में मंगलवार को भारी हथियारों से लैस अरबी भाषी तालिबान आत्मघाती हमलावर घुस गए और फिर खुद को उड़ाने से पहले अंधाधुंध गोलीबारी की. इस निर्मम आतंकवादी हमले में कम से कम 141 लोग मारे गए हैं, जिनमें अधिकांश छात्र हैं. हमले में 130 लोग घायल भी हुए हैं.

मोदी ने ट्विटर पर लिखा, ‘प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से फोन पर बात की है. पेशावर में जघन्य आतंकी हमले पर अपनी गहरी संवेदना जताई है.’ मोदी ने एक अलग पोस्ट में कहा, ‘आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत पाकिस्तान के साथ पूरी मजबूती के साथ खड़ा हुआ है. प्रधानमंत्री शरीफ से कहा कि हम दुख की घड़ी में पूरी मदद मुहैया कराने को तैयार हैं.’

प्रधानमंत्री ने एक और ट्वीट में कहा, ‘पाकिस्तान में जघन्य हमले के मद्देनजर मैंने भारत के सभी स्कूलों से अपील की है कि वे कल एकजुटता दिखाते हुए दो मिनट का मौन रखें.’ विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अकबरुद्दीन ने एक बयान में कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने मंगलवार देर शाम शरीफ के पेशावर से इस्लामाबाद लौटने के ठीक बाद उनसे बातचीत की.

अकबरुद्दीन के मुताबिक मोदी ने कहा, ‘शिक्षा के मंदिर में निर्दोष बच्चों की निर्मम हत्या न सिर्फ पाकिस्तान बल्कि पूरी मानवता के खिलाफ हमला है.’ मोदी ने शरीफ से कहा कि ‘भारत के लोग पाकिस्तान के शोकाकुल परिवारों के साथ दर्द और दुख को साझा करते हैं तथा इस भयावह दुख की घड़ी में उनके साथ खड़े हैं.’

अकबरुद्दीन ने कहा, ‘मोदी ने उम्मीद जताई कि इस भयावक आतंकी हमले और अपने दोस्तों को खोने के साक्षी बने बच्चे काउंसिलिंग के जरिए इस चोट से उबर जाएंगे.’ इससे पहले दिन में इस आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा करते हुए मोदी ने इसे ‘अकथनीय क्रूरता का विवेकहीन कृत्य’ करार दिया.

मोदी ने ट्वीट करके कहा था, ‘अपने प्रियजनों को गंवाने वाले सभी लोगों के प्रति मेरी संवेदना है. हम उनकी पीड़ा साझा करते हैं और गहरी संवेदना जताते हैं.’ मोदी ने कहा, ‘पेशावर के एक विद्यालय में किए गए कायरतापूर्ण आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा करते हैं. यह अकथनीय क्रूरता का विवेकहीन कृत्य है जिसमें मनुष्यों में सबसे बेगुनाह छोटे बच्चों की उनके स्कूल में जान गई.’

- इनपुट भाषा

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें