scorecardresearch
 

करतारपुर में लाहौर की महिला ने की मॉडलिंग, PAK मंत्री हुए खफा

लाहौर की एक महिला गुरुद्वारा श्री दरबार साहिब में सिर को ढके बिना तस्वीरें क्लिक कराते हुए नजर आई थीं. पाकिस्तान के मंत्री फवाद चौधरी ने इस पर नाराजगी जाहिर की है और कहा है कि महिला को सिख समुदाय से माफी मांगनी चाहिए.

फवाद चौधरी, फोटो क्रेडिट: रॉयटर्स फवाद चौधरी, फोटो क्रेडिट: रॉयटर्स
स्टोरी हाइलाइट्स
  • फवाद चौधरी ने लाहौर की महिला को माफी मांगने के लिए कहा
  • पहले भी अपने बयानों के जरिए चर्चा में रह चुके पाक मंत्री

अक्सर अपने विवादित बयानों के चलते चर्चा में रहने वाले पाकिस्तान के सूचना एवं प्रसारण मंत्री फवाद चौधरी एक बार फिर सुर्खियों में हैं. फवाद चौधरी ने दरअसल ट्विटर पर एक शख्स के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए एक महिला को माफी मांगने के लिए कहा है. लाहौर की ये महिला गुरुद्वारा श्री दरबार साहिब में सिर पर बिना कुछ ओढ़े हुए तस्वीरें क्लिक कराते हुए नजर आई थीं. फवाद चौधरी का ये ट्वीट सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है. 

दरअसल, रविंद्र सिंह रोबिन नाम के शख्स ने एक ट्विटर पर एक वीडियो पोस्ट किया था. इस वीडियो में एक महिला पाकिस्तान के गुरुद्वारे श्री दरबार साहिब में सूट में फोटोशूट कराते हुए नजर आ रही है. रविंद्र सिंह ने इस वीडियो के कैप्शन में लिखा कि पाकिस्तान के करतारपुर साहिब में गुरुद्वारा श्री दरबार साहिब के परिसर में लाहौर की ये महिला सिर पर बिना कुछ ओढ़े हुए एक ब्रैंड के लिए मॉडलिंग कर रही हैं. इन्होंने सिख समुदाय के सैकड़ों लोगों की भावनाओं को आहत किया है. यही नहीं, उन्होंने इन तस्वीरों को सोशल मीडिया पर भी अपलोड किया है. 

धार्मिक स्थल को फिल्म का सेट मत समझो- फवाद चौधरी

रविंद्र सिंह के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए फवाद चौधरी ने लिखा कि मॉडल और डिजाइनर को सिख कम्युनिटी से माफी मांगनी चाहिए क्योंकि करतारपुर साहिब कोई फिल्म सेट नहीं है बल्कि एक धार्मिक प्रतीक है. गौरतलब है कि कुछ समय पहले भी फवाद चौधरी अपने एक बयान के चलते जबरदस्त ट्रोल हो रहे थे. उन्होंने महंगाई पर चल रही प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा था कि गार्लिक को अदरक बता दिया था.

गौरतलब है कि करतारपुर कॉरिडोर कुछ दिनों पहले ही खोला गया है. यहां जाने के लिए श्रद्धालुओं को कोविड प्रोटोकॉल का भी पालन करना पड़ता है. सिर्फ उन श्रद्धालुओं को ही पाकिस्‍तान में जाने की अनुमति मिल रही है जिनको वैक्‍सीन की दोनों डोज लग चुकी हैं और जो भी श्रद्धालु पवित्र दर्शन के लिए जा रहे हैं, उनको अपने साथ आरटीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट ले जानी होगी.

करतारपुर साहिब कॉरिडोर डेढ़ साल के बाद खुला है. कोरोना महामारी की वजह से कॉरिडोर को बंद कर दिया गया था. 16 मार्च 2020 से करतारपुर साहिब कॉरिडोर के लिए रजिस्‍ट्रेशन बंद थे. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×