scorecardresearch
 

लंदन में भारतीय उच्चायोग के बाहर हिंसक प्रदर्शन, दो आरोपी गिरफ्तार

लंदन में भारतीय उच्चायोग के बाहर हिंसक प्रदर्शन के मामले में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है. इस घटना से भारतीय विदेश मंत्रालय चिंतित है. विदेश मंत्रालय ने कहा कि एक महीने से भी कम समय में दूसरी बार हिंसक प्रदर्शन की घटना हुई है. इससे हमारे मिशन की सुरक्षा और सामान्य कामकाज प्रभावित हुआ है.

लंदन में भारतीय उच्चायोग में पाकिस्तानियों ने तोड़फोड़ की (फोटो-Twitter) लंदन में भारतीय उच्चायोग में पाकिस्तानियों ने तोड़फोड़ की (फोटो-Twitter)

  • लंदन में भारतीय उच्चायोग पर हमले के मामले में 2 गिरफ्तार
  • पाकिस्तान समर्थक लोगों ने किया था प्रदर्शन
  • भारतीय उच्चायोग पर की थी पत्थरबाजी

लंदन में भारतीय उच्चायोग के बाहर हिंसक प्रदर्शन के मामले में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है. इस घटना से भारतीय विदेश मंत्रालय चिंतित है. विदेश मंत्रालय ने कहा कि एक महीने से भी कम समय में दूसरी बार हिंसक प्रदर्शन की घटना हुई है. इससे हमारे मिशन की सुरक्षा और सामान्य कामकाज प्रभावित हुआ है.

भारत के विदेश मंत्रालय ने ब्रिटेन की सरकार से मांग की है कि आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए. बता दें कि जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को हटाने के विरोध में लंदन स्थित भारतीय उच्चायोग पर मंगलवार को पाकिस्तानी प्रदर्शनकारियों ने हमला किया और तोड़-फोड़ की. ये लोग यहां प्रदर्शन करने आए थे. समाचार एजेंसी आईएएनएस की रिपोर्ट के मुताबिक लंदन पुलिस ने एक प्रदर्शनकारी के पास से छुरा भी बरामद किया गया है.

ब्रिटेन में रह रहे पाकिस्तानियों और कश्मीरियों ने मंगलवार को कश्मीर की स्थिति पर मार्च निकाला था. मार्च की शुरुआत शांतिपूर्ण तरीके से हुई, लेकिन भारतीय दूतावास पहुंचते ही इसने हिंसक रूप ले लिया. प्रदर्शनकारियों ने इमारत पर पथराव किया और अंडे फेंके थे. इस घटना की जानकारी देते हुए भारतीय उच्चायोग ने ट्वीट कर बताया, "लंदन में आज, 3 सितंबर 2019 को भारतीय उच्चायोग के बाहर एक और हिंसक प्रदर्शन हुआ, जिससे परिसर को क्षति पहुंची."

भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों ने इमारत की टूटी हुई खिड़की की तस्वीर भी पोस्ट की है. बता दें कि एक महीने से भी कम समय में लंदन के भारतीय उच्चायोग इमारत पर यह दूसरा हमला है. इससे पहले पाकिस्तानी प्रदर्शनकारियों ने 15 अगस्त को भी यहां प्रदर्शन किया था इस दौरान वे उग्र हो गए थे. भारत के विदेश मंत्रालय ने ब्रिटेन की सरकार के साथ इस मामले को उठाया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें