scorecardresearch
 

खालिस्तानी 'SFJ' के संदेश में करतारपुर की 20 डॉलर की फीस वापसी की पेशकश, क्या है ‘खेल’?

SFJ यानि ‘सिख फॉर जस्टिस’ नामक संगठन  ने ‘रेफरेंडम 2020’ के नाम से भारत विरोधी एजेंडा चला रखा है. इसके पोस्टर पाकिस्तान के अधिकतर गुरद्वारों के आसपास देखे जा सकते हैं.

फाइल फोटो (PTI) फाइल फोटो (PTI)

  • ‘रेफरेंडम 2020’ के नाम से SFJ ने चला रखा है अलगाववादी एजेंडा
  • पाकिस्तान में कई गुरुद्वारों के बाहर दिखते हैं संगठन के पोस्टर

खालिस्तानी गुट और पाकिस्तान के ‘स्टेट एक्टर्स’  (सरकारी संस्थान) लंबे अर्से से एक दूसरे की मदद के लिए जाने जाते रहे हैं. इसी कड़ी में सोशल मीडिया पर फैलाए जा रहे एक संदेश को देखा जा सकता है. इस संदेश में 20 अमेरिकी डॉलर की उस फीस की वापसी की पेशकश की जा रही है, जो करतारपुर साहब गुरुद्वारे जाने वाले भारतीय श्रद्धालुओं से पाकिस्तान वसूल रहा है. ये फीस उन श्रद्धालुओं से ली जाती है जो वहां पहुंचने के लिए करतारपुर कॉरिडोर का इस्तेमाल करते हैं.

संदेश में लिखा गया है, 'पंजाब के जिन सिख श्रद्धालुओं ने 9 से 12 नवंबर के बीच करतारपुर कॉरिडोर का इस्तेमाल किया वो 20 डॉलर की सर्विस फीस का वापस भुगतान पाने के लिए SFJ से कृपया संपर्क करें.' संदेश में स्कैन की हुई फीस की रसीद और राष्ट्रीय पहचान कार्ड (ID) की प्रतियों को ईमेल पते या वाट्सएप नंबर पर भेजने के लिए कहा गया है.

बता दें कि SFJ यानि ‘सिख फॉर जस्टिस’ नामक संगठन  ने ‘रेफरेंडम 2020’ के नाम से भारत विरोधी एजेंडा चला रखा है. इसके पोस्टर पाकिस्तान के अधिकतर गुरुद्वारों के आसपास देखे जा सकते हैं. ये संगठन अपनी सदस्य संख्या बढ़ाने और रेफरेंडम के लिए वोट जुटाने को करतारपुर कॉरिडोर का इस्तेमाल करने की फिराक में है.

sikh-2_111419082915.jpg

संदेश के नीचे ही एक वेबसाइट का पता दिया गया है जिसमें ‘पंजाब रेफरेंडम 2020 खालिस्तान’ के एडवांस वोटर के तौर पर रजिस्टर करने के लिए लॉग इन करने के लिए कहा जा रहा है. भारतीय प्रशासन की ओर से वक्त-वक्त पर खालिस्तानी आतंकवादियों और उनसे जुड़े संगठनों की ओर से कॉरिडोर के दुरुपयोग को लेकर आशंकाएं जताई जाती रही हैं.

डेटा कलेक्शन का मिलेगा मौका

ये घटनाक्रम भारत की सुरक्षा के लिए गंभीर चुनौती वाला है क्योंकि इससे SFJ को कई भारतीय नागरिकों का डेटा कलेक्शन का मौका मिलेगा. ऐसे में फोरम की ओर से अपने नापाक एजेंडे के प्रचार के लिए संभावना बनी रहेगी.  इस तरह का हथकंडा पाकिस्तान को किसी तरह के जुड़ाव से इनकार करने का मौका देगा.  SFJ के संदेश को लेकर भारतीय अधिकारी चौकस हैं. साथ ही इससे जुड़े हर घटनाक्रम पर बारीकी से नज़र रखे हुए हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें