scorecardresearch
 

PoK में फिर एक्टिव हुए आतंकी कैंप, अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद बढ़ी संख्या

सुरक्षा एजेंसियों ने ये आशंका जताई है कि तालिबान के हाथ लगे हथियारों के जखीरे को लश्कर और जैश के आतंकियो को दिए जा रहे हैं. ISI लगातार कश्मीर में भारतीय सुरक्षा बलों पर हमले की साजिश में लगी हुई है.

पीओके में एक्टिव किए 35 लॉन्च पैड पीओके में एक्टिव किए 35 लॉन्च पैड
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पाकिस्तान ने एक्टिव किए 35 लॉन्च पैड
  • POK में फिर बढ़ी आतंकियों की हलचल

अफगानिस्तान की सत्ता पर तालिबान के काबिज होने के बाद पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के हौसले बुलंद हैं. इसका असर पाक अधिकृत कश्मीर (PoK) में भी देखने को मिल रहा है. सुरक्षा एजेंसियों के मुताबिक पीओके स्थित आतंकी कैंप में हलचल बढ़ गई है और इनके मास्टरमाइंड भारत में आतंकियों को घुसपैठ कराने की साजिश में लग गए हैं. आजतक को जो एक्सक्लूसिव जानकारी मिली है उसके मुताबिक पीओके में तीन नए टेरर कैंप को पाक आर्मी और ISI ने एक्टिव किया है जिससे अब टेरर कैंप की संख्या 17 से बढ़कर 20 हो गई है.

सूत्रों के मुताबिक ये नए टेरर कैंप मुजफ्फराबाद के नजदीक चेलाबंदी, तेजिन और छेजुआ के नज़दीक बनाए गए हैं. एक अधिकारी के मुताबिक भारत-पकिस्तान के बीच फरवरी में हुए सीजफायर (Ceasefire) के बाद से पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी एक बार फिर से आतंकियों को जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ कराने की साजिश में जुटी है. इस महीने 18-19 की रात लाइन ऑफ कंट्रोल से लगे उरी सेक्टर में छह आतंकियों के घुसपैठ की आशंका थी. सेना के जवान 30 घंटे से भी अधिक समय से लगातार सर्च ऑपरेशन में जुटे हैं. इन आतंकियों के बारे में जानकारी मिली है कि वे ऐसे ही टेरर कैंप से ट्रेनिंग लेकर जम्मू-कश्मीर में किसी बड़े आतंकी हमले की साजिश को अंजाम देने की कोशिश में हैं.

तालिबान दे रहे हथियार

सुरक्षा एजेंसियों ने ये आशंका जताई है कि तालिबान के हाथ लगे हथियारों के जखीरे को लश्कर और जैश के आतंकियों को दिए जा रहे हैं. ISI लगातार कश्मीर में भारतीय सुरक्षा बलों पर हमले की साजिश में लगी हुई है. आजतक को मिली जानकारी के मुताबिक ISI ने आतंकियों के साथ मिलकर एक प्लान तैयार किया है जिसके तहत सभी घुसपैठ के रास्तों की मैपिंग और रुट मैप भी आतंकियों को दिए गए हैं. घुसपैठ की जिम्मेदारी पाक अधिकृत ब्रिगेड रावलकोट को दी गई है.

खुफिया सूत्रों के मुताबिक माछल सेक्टर के सामने आतंकियों के कई ग्रुप लॉन्चिंग पैड पर मौजूद हैं. इनमें 21 जैश और लश्कर के आतंकी केजी सेक्टर के ठीक सामने बने लॉन्च पैड पर मौजूद हैं. 13 आतंकी इस समय पाकिस्तान की लंजोट टेरर लॉन्च पैड पर मौजूद हैं. इनकी हर एक गतिविधि की जानकारी सुरक्षाबलों के पास मौजूद है. ये इलाका भारतीय सीमा के बिंबर गली सेक्टर के सामने पड़ता है. इसी बीजी सेक्टर के सामने पाकिस्तान के लिए आठ लश्कर और अल बदर के आतंकियों के पाकिस्तानी पोस्ट टेकरी पर होने के प्रमाण मिले हैं.

उरी सेक्टर के सामने 5 लॉन्च पैड एक्टिव

आजतक के हाथ जो खुफिया जानकारी लगी है, उसके मुताबिक लश्कर और जैश के दो दर्जन से ज्यादा आतंकी उरी सेक्टर के पास पांच लॉन्चिंग पैड पर एकत्रित हैं. इन्हें पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI और आर्मी ने ट्रेंड किया है. इन्हें खुफिया रास्तों से कश्मीर घाटी में घुसपैठ करा सुरक्षा बलों को निशाना बनाने की मन्शा है. 

ये हैं उरी के पास लॉन्च पैड

  1. कथाई  (Kathai)
  2. पटियान (Patiyan)
  3. पांडू (Pandu)
  4. बोकरा गली (Bokra Gali)
  5. खोजबंदी (KHoja bandi)

बता दें कि अफगानिस्तान में तालिबान के काबिज होने के बाद पाक खुफिया एजेंसी ISI के हौसले बुलंद हैं. जब अफगानिस्तान में तालिबान अपनी ताकत लगातार मजबूत कर रहा था उसी दौरान ISI और पाक सेना, कश्मीर के लिए प्लान तैयार कर रहे थे.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें