scorecardresearch
 

भारतीय लेखक अमिताभ घोष मैन बुकर के टॉप 10 में पहुंचे

इस साल के मैन बुकर अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार के लिए अंतिम 10 लेखकों में अमिताभ घोष का नाम शामिल है. इसमें वह एकमात्र भारतीय लेखक हैं. घोष को अंग्रेजी भाषा में शानदार योगदान के कारण इस लिस्ट में शामिल किया गया है.

अमिताभ घोष अमिताभ घोष

इस साल के मैन बुकर अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार के लिए अंतिम 10 लेखकों में अमिताभ घोष का नाम शामिल है. इसमें वह एकमात्र भारतीय लेखक हैं. घोष को अंग्रेजी भाषा में शानदार योगदान के कारण इस लिस्ट में शामिल किया गया है.

कोलकाता में पैदा हुए 58 वर्षीय घोष साल 2008 में बुकर पुरस्कार चूक गए थे. उस वक्त उनकी किताब ‘सी ऑफ पापीज’ को बुकर के शीर्ष दावेदारों की सूची में शामिल किया गया था. लोकप्रिय साहित्य पुरस्कार के अंतरराष्ट्रीय संस्करण का आयोजन 19 मई को लंदन में होगा. यह पुरस्कार हर दो साल पर किसी एक ऐसे लेखक को दिया जाता है जिसकी प्रकाशित रचना मूल रूप से अंग्रेजी भाषा में हो अथवा उसके काम का अंग्रेजी में अनुवाद किया गया हो.

बुकर प्राइज फाउंडेशन के प्रमुख जोनाथन टेलर ने कहा, ‘यह अंतिम दावेदारों की बहुत दिलचस्प और शिक्षाप्रद सूची है. पहली बार 10 देशों के लेखकों को इसमें शामिल किया गया.’ लीबिया, मोजाम्बिक, गुआदली, हंगरी, दक्षिण अफ्रीका और कांगों के लेखकों को इसमें पहली बार स्थान मिला है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें