scorecardresearch
 

भारत रूस से खरीदेगा 200 हेलीकॉप्टर, एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम पर भी बात

भारत और पुराने सहयोगी रूस एक बार फिर डिफेंस सेक्टर में सहयोग को नई ऊंचाइयों तक ले जाने को तैयार हैं. दोनों देशों के बीच 200 हल्के हेलीकॉप्टरों की खरीद समेत कई अहम समझौतों पर बातचीत अंतिम दौर में है.

पीएम मोदी और रूस से राष्ट्रपति पुतिन पीएम मोदी और रूस से राष्ट्रपति पुतिन

भारत और पुराने सहयोगी रूस एक बार फिर डिफेंस सेक्टर में सहयोग को नई ऊंचाइयों तक ले जाने को तैयार हैं. दोनों देशों के बीच 200 हल्के हेलीकॉप्टरों की खरीद समेत कई अहम समझौतों पर बातचीत अंतिम दौर में है. इसके अलावा S-400 एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम को लेकर भी दोनों देशों को लेकर बातचीत जारी है.

रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन इसी हफ्ते भारत के दौरे पर आने वाले हैं. इन समझौतों को लेकर इस दौरे में बातचीत आगे बढ़ेगी और महत्वपूर्ण समझौतों पर हस्ताक्षर होंगे. रूसी राष्ट्रपति भारत दौरे के दौरान गोवा में ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे. इसके अलावा वे 17वें भारत-रूस वार्षिक शिखर सम्मेलन में भी शिरकत करेंगे. इस बैठक में दोनों देश द्विपक्षीय संबंधों में प्रगति की समीक्षा होगी साथ ही कई अहम समझौतों पर हस्ताक्षर किए जाएंगे. दोनों देशों के बीच जिन पांच अहम समझौतों पर बातचीत जारी है वे हैं:

S-400 एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम
भारत-रूस के बाच जिन समझौतों पर बातचीत जारी है उनमें सबसे महत्वपूर्ण है S-400 एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम. भारत की सुरक्षा प्रणाली को मजबूत करने की दिशा में इसे काफी अहम माना जा रहा है. भारत इस तरह के पांच सिस्टम को हासिल करने की तैयारी में है.

Mi-17 V-5 मध्यम ट्रांसपोर्ट हेलीकॉप्टर
भारत की कोशिश वायु सेना के लिए मध्यम क्षमता के 48 ऐसे हेलीकॉप्टर खरीदने की भी है. अभी तक भारत में ट्रांसपोर्ट हेलीकॉप्टरों के रूप में Mi-17 हेलीकॉप्टरों पर ही निर्भरता है. अगर रूस से बातचीत फाइनल होती है तो आपात स्थिति में मदद पहुंचाने और ऑपरेशन चलाने की एयरफोर्स की क्षमता में और बढ़ोत्तरी होगी.

इंफैट्री कॉम्बैट व्हिकल्स
सशस्त्र बलों को ले जाने के लिए इंफैट्री कॉम्बैट व्हिकल्स की खरीदारी के लिए भी भारत रूस से बातचीत कर रहा है. भारत इस डील के जरिए रूस से ऐसे 100 से अधिक वाहन खरीदने की कोशिश में है.

नेवी के लिए दो डीजल-इलेक्ट्रिक सबमरीन
रूसी मीडिया में छपी रिपोर्टों के अनुसार भारत नेवी के लिए रूस से दो डीजल-इलेक्ट्रिक सबमरीन खरीदने के लिए भी बात कर रहा है.

न्यूक्लियर सबमरीन को लीज पर लेने की तैयारी
डीजल-इलेक्ट्रिक सबमरीन्स के अलावा भारत रूस से परमाणु संपन्न सबमरीन लीज पर लेने की तैयारी में भी है. भारत की कोशिश हिंद महासागर में अपनी क्षमता विस्तार की है और रूस से लीज पर लिए गए इस न्यूक्लियर सबमरीन से इस क्षेत्र में भारत का दबदबा और बढ़ेगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें