scorecardresearch
 

'मुस्लिम देशों से माफी ना मांगें' कहने वाले डच सांसद ने भारत को लेकर दिया ये बयान

एक टीवी डिबेट के दौरान नूपुर शर्मा पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी कर विवादों में घिर गई हैं. देश, विदेशों में उनके बयान का लगातार विरोध हो रहा है. इस बीच डच सांसद गीर्ट विल्डर्स उनके बचाव में उतरे. उन्होंने दावा भी किया कि नूपुर का समर्थन करने को लेकर उन्हें जान से मारने की धमकियां दी जा रही हैं.

X
डच सांसद गीर्ट विल्डर्स (photo: reuters) डच सांसद गीर्ट विल्डर्स (photo: reuters)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • नूपुर शर्मा ने पैगंबर मोहम्मद पर की थी टिप्पणी
  • कई अरब और इस्लामिक देशों ने जताया था विरोध
  • बीजेपी से सस्पेंड की गईं थीं नूपुर शर्मा

पैगंबर मोहम्मद पर विवादित टिप्पणी करने वालीं नूपुर शर्मा का बचाव कर चर्चा में आए डच सांसद गीर्ट विल्डर्स ने अब भारत की तारीफ की है.

उन्होंने ट्वीट कर कहा, मुझे भारत से प्यार है. यह दमनकारियों से भरे क्षेत्र का एकमात्र लोकतंत्र है.

डच सांसद ने यह भी कहा, किसी देश को आर्थिक कारणों के लिए अपनी स्वतंत्रता नहीं खोनी चाहिए. 

गीर्ट विल्डर्स ने इंडिया टुडे को दिए एक इंटरव्यू में कहा, आजादी दांव पर लगी है. भारत और नीदरलैंड्स जैसे देशों में कानून का शासन है. यह अदालत को तय करना है कि क्या कोई उस सीमा को पार कर रहा है. भीड़ को किसी को जान से मारने की धमकी देने का हक नहीं है.

उन्होंने एक अन्य बयान में कहा था कि भारत को इस्लामिक देशों के दबाव में आने और माफी मांगने की जरूरत नहीं है.

एक टीवी डिबेट के दौरान पैगंबर मोहम्मद पर विवादित टिप्पणी करने के बाद से नूपुर शर्मा देश से लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आलोचना का सामना कर रही हैं. इस मामले के तूल पकड़ने के बाद नूपुर शर्मा को बीजेपी ने पार्टी से सस्पेंड कर दिया था. 

गीर्ट का कहना है कि नूपुर शर्मा का समर्थन करने पर उन्हें जान से मारने की धमकियां मिल रही हैं.

उन्होंने कहा, चूंकि मैंने नूपुर शर्मा का समर्थन किया. मुझे जान से मारने की कई धमकियां मिलीं. कुरान के बारे में एक फिल्म बनाने को लेकर मेरे खिलाफ फतवा जारी किया गया. मैंने अपना घर छोड़ दिया और फिर कभी वापस नहीं लौटा. मैं जानता हूं कि नूपुर शर्मा को किस तरह की परिस्थितियों का सामना करना पड़ेगा. 

उन्होंने कहा, मैंने कुरान को लेकर 'फितना' के नाम से एक फिल्म बनाई थी. मैंने इस्लामिक विचारधारा की आलोचना की थी. इसके लिए मेरे खिलाफ अलकायदा, तालिबान और कई अन्य ने फतवा जारी किया.

गीर्ट विल्डर्स ने कहा, मुझे अपना घर छोड़ना पड़ा. मैं सरकार की ओर से मुहैया कराए गए एक सुरक्षित घर में रह रहा हूं. इस्लाम की आलोचना करने के बाद से मैं 17 सालों से बिना पुलिस की सुरक्षा के घर से बाहर नहीं निकला हूं. मैंने अपनी निजी स्वतंत्रता खो दी है.

नीदरलैंड्स में इस्लाम पर बैन लगाने का कैंपेन चला चुके गीर्ट विल्डर्स का कहना है कि देशों को असहिष्णुता को लेकर सहिष्णु होना बंद करना चाहिए.

विल्डर्स ने कहा, हमारी आजादी दांव पर लगी है. हम अपनी आजादी के लिए मोल-तोल नहीं कर सकते. अगर नूपुर शर्मा ने कुछ गलत किया है तो भारत की अदालत को इस पर फैसला देने दीजिए. भारत एक संप्रभु राष्ट्र है.

बता दें कि नूपुर शर्मा के पैगंबर मोहम्मद पर बयान को लेकर अब तक सऊदी अरब, कुवैत, कतर, ओमान, यूएई, जॉर्डन, अफगानिस्तान, पाकिस्तान, बहरीन, तुर्किए, ईरान और कई देश आलोचना कर चुके हैं.

कई देशों ने अपने देश में स्थित भारतीय राजदूतों को तलब कर नाराजगी भी जताई थी.

कतर और कुवैत ने तो भारत से सार्वजनिक तौर पर माफी मांगने को भी कहा था. इसके बाद भारत ने नूपुर शर्मा को पार्टी से सस्पेंड कर दिया था. 

भारत सरकार ने कहा था कि उनकी पार्टी सभी धर्मों का सम्मान करती है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें