scorecardresearch
 

वैक्सीन नहीं तो आजादी भी नहीं, इस देश में कोरोना टीका न लेने वालों पर लॉकडाउन!

जिन लोगों को ऑस्ट्रिया में कोरोना वैक्सीन लग चुकी है, वे रेस्टोरेंट भी जा पाएंगे, होटल में भी रहेंगे और उन्हें ज्यादा सुविधाएं भी मिलती रहेंगी. लेकिन जिन लोगों ने वैक्सीन की खुराक नहीं ली है, उन्हें घर में ही रहना पड़ेगा.

X
इस देश में वैक्सीन नहीं लेने पर लॉकडाउन ( सांकेतिक फोटो ) इस देश में वैक्सीन नहीं लेने पर लॉकडाउन ( सांकेतिक फोटो )
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ऑस्ट्रिया में वैक्सीन नहीं लेने वालों को सजा
  • ऐसे लोगों के लिए लगा दिया गया है लॉकडाउन

यूरोप में कोरोना वायरस ने फिर बड़ी ही तेजी से दस्तक दे दी है. पश्चिमी यूरोप में तो स्थिति ज्यादा चिंताजनक है जहां पर टीकाकरण तो ज्यादा हुआ है, लेकिन मामले फिर भी फुल स्पीड से बढ़ रहे हैं. अब यूरोप के ही ऑस्ट्रिया में टीका ना लगवाने के खिलाफ कड़ा एक्शन लिया जाएगा. वहां पर सरकार ने ऐसे लोगों के लिए लॉकडाउन लगा दिया है. 

कोरोना वैक्सीन नहीं ली तो लॉकडाउन

जिन लोगों को ऑस्ट्रिया में कोरोना वैक्सीन लग चुकी है, वे रेस्टोरेंट भी जा पाएंगे, होटल में भी रहेंगे और उन्हें ज्यादा सुविधाएं भी मिलती रहेंगी. लेकिन जिन लोगों ने वैक्सीन की खुराक नहीं ली है, उन्हें घर में ही रहना पड़ेगा.

ऐसे लोगों को सिर्फ जरूरी सामान लाने और डॉक्टर से मिलने की अनुमति रहेगी. जानकारी ये भी दी गई है कि जिन लोगों को हाल ही में कोविड हुआ है और वे अभी तक रिकवर नहीं किए हैं, उन्हें भी लॉकडाउन में रहना पड़ेगा. 

ऑस्ट्रिया की कोरोना स्थिति

ऑस्ट्रिया के चांसलर एलेक्जेंडर शालेनबर्ग इन सख्त नियमों को ऐलान किया है. आज से ऑस्ट्रिया में सीमित लोगों के लिए लॉकडाउन लगा दिया गया है. ऐसे में बढ़ते मामलों के बीच टीका को काफी ज्यादा अहमियत दी जा रही है.

वैसे ऑस्ट्रिया में टीकाकरण की स्थिति अच्छी है. वहां पर 65 प्रतिशत लोगों को कोरोना का टीका लगा दिया गया है. बच्चों की वैक्सीन पर भी तेजी से काम किया जा रहा है. ऐसे में स्थिति को नियंत्रण में करने का पूरा प्रयास है, लेकिन वो ज्यादा सफल नहीं हो रहा है. 

शनिवार को ऑस्ट्रिया में कोरोना के 13000 मामले सामने आए, वहीं अब तक 11700 लोग अपनी जान भी गंवा चुके हैं. लेकिन अब इस ट्रेंड को बदलने की तैयारी है. टीका नहीं लगवाने वालों को लॉकडाउन रखने का फैसला हुआ है. ऐसा करने वाला ऑस्ट्रिया पहला देश है क्योंकि उन्होंने सीमित लोगों के लिए कोई गाइडलाइन जारी कर दी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें