scorecardresearch
 

फर्जी कॉल मामले में निगरानी संस्था की जांच शुरू

आस्ट्रेलियाई मीडिया निगरानी संस्था ने ब्रिटेन के एक अस्पताल में सिडनी के एक रेडियो स्टेशन द्वारा की गई फर्जी कॉल के प्रसारण के मामले की जांच शुरू कर दी.

आस्ट्रेलियाई मीडिया निगरानी संस्था ने ब्रिटेन के एक अस्पताल में सिडनी के एक रेडियो स्टेशन द्वारा की गई फर्जी कॉल के प्रसारण के मामले की जांच शुरू कर दी. अस्पताल में राजकुमारी केट का इलाज चल रहा था और इस फर्जी कॉल के कारण भारतीय मूल की एक नर्स की मौत हो गई थी.

इस मौत की पूरी दुनिया में निंदा की गई और आस्ट्रेलियाई संचार एवं मीडिया प्राधिकरण (एसीएमए) ने अपनी विशेष शक्तियों का उपयोग करते हुए ‘स्वत: संज्ञान’ लेते हुए जांच शुरू की, जबकि अन्य मामलों में यह प्राधिकरण शिकायत आने का इंतजार करता है.

‘द एज’ अखबार ने खबर दी है कि प्राधिकरण के प्रवक्ता ने कहा कि संस्था इस बात की जांच करेगी कि क्या लाइसेंसधारी ‘टुडे एफएम सिडनी प्राइवेट लिमिटेड’ ने लाइसेंस नियमों या उद्योग की आचार संहिता का उल्लंघन किया.

संस्था इस बात की जांच करेगी कि क्या नेटवर्क ने शालीनता के मानकों का, निजता का उल्लंघन किया या रजामंदी के नियमों को तोड़ा.

मीडिया निगरानी संस्था ने कहा कि वह जांच तेज करेगी और वह इस बारे में कोई अन्य बयान नहीं देना चाहती क्योंकि जांच जारी है.

ऐसा माना जाता है कि सार्वजनिक सुनवाई नहीं होगी.

दो आस्ट्रेलियाई प्रस्तोताओं ने खुद को महारानी और राजकुमार चार्ल्स बताते हुए अस्पताल में फर्जी कॉल करके राजकुमार विलियम्स की गर्भवती पत्नी केट मिडलटन के बारे में जानकारी मांगी थी और जैसिंथा साल्दान्हा ने उनकी कॉल संबद्ध विभाग में स्थानांतरित कर दी थी, जहां से उन्हें केट के गर्भवती होने के बारे में जानकारी मिली.

केट के गर्भवती होने की खबर दुनिया के सामने इसी तरह आई, जिसके बाद जैसिंथा मृत पाई गई.

प्रस्तोताओं माइकल क्रिस्टियन और मेल ग्रेग ने इसके बाद यह शो छोड़ दिया और अपने कदम के लिए माफी मांगी थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें