scorecardresearch
 

काबुल में पाई-पाई को मोहताज लोग, फर्नीचर-किचन का सामान बेचकर पूरी कर रहे जरूरतें

अफगानिस्तान में हालात सामान्य होने में अभी काफी वक्त लग रहा है. लोगों की कमाई का जरिया गायब है और ऐसे में कई लोग अपने घरों का सामान बेचने को मजबूर हो रहे हैं.

काबुल में घरों का सामान बेचने को मजबूर लोग (स्क्रीनग्रैब) काबुल में घरों का सामान बेचने को मजबूर लोग (स्क्रीनग्रैब)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • काबुल में घर का सामान बेच रहे हैं लोग
  • काम-धंधा चौपट होने से बने ऐसे हालात

अफगानिस्तान में तालिबान (Taliban) का राज आए हुए एक महीना हो गया है, लेकिन जंग उससे काफी पहले से चल रही है. पिछले कुछ महीनों से अफगानिस्तान (Afghanistan) के अलग-अलग हिस्सों में कामकाज ठप पड़ा है, लोगों के पास कमाई का ज़रिया नहीं है. ऐसे में लोगों को घर का खर्च चलाने के लिए भी अपने घर का सामान बेचना पड़ रहा है. 

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल (Kabul) में एक ऐसा बाज़ार है, जहां पर लोग अपने घरों का सामान ला रहे हैं. कोई बेड ला रहा है, कोई फर्नीचर तो कोई अपनी रसोई का सामान ला रहा है. हर कोई यहां बाज़ार में अपने इन सामानों को बेच रहा है, ताकि पैसा मिल जाए और खाना या अन्य ज़रूरी सामान को खरीद सकें. 

तालिबान का राज आने के बाद अफगानिस्तान में लंबे वक्त तक कैश का भी संकट रहा. लोग घंटों तक एटीएम या बैंक (Bank) की लाइन में खड़े थे, ताकि पैसा निकाल सकें. बाजार बंद थे, ऐसे में सामान लेने या बिक्री होने में भी काफी दिक्कतें आ रही थीं. 

अलग-अलग पाबंदियां होने से मुश्किलें

अब जब तालिबान ने अपनी सरकार बना ली है, तब कुछ हदतक कामकाज शुरू हुआ है. लेकिन अभी भी काफी मुश्किलें हैं. कहीं महिलाओं को काम नहीं करने दिया जा रहा है, तो कहीं तालिबान के लड़ाकों द्वारा अलग-अलग पाबंदियां लगाई जा रही हैं. ऐसे में लोग अपने घरों का पुराना सामान बेचकर पैसा जुटाने में लगे हैं. 

आपको बता दें कि बड़ी संख्या में लोग तालिबान का राज आने के बाद देश को भी छोड़कर चले गए हैं. ऐसे में यहां रह रहे लोगों को कई तरह की मुश्किलें हो रही हैं. तालिबान ने लोगों से अपने काम पर लौटने, दफ्तरों में आने की अपील की है, लेकिन हर किसी को अभी भी डर ही लग रहा है. 


 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें