scorecardresearch
 
विश्व

पाकिस्तान के दोस्त महातिर ने क्यों अचानक दिया इस्तीफा, मजबूरी या चाल?

पाकिस्तान के दोस्त महातिर ने क्यों अचानक दिया इस्तीफा, मजबूरी या चाल?
  • 1/13
भारत में जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप दो दिवसीय दौरे पर आए थे, उसी वक्त मलेशिया की राजनीति में एक बड़ा घटनाक्रम हुआ. मलेशिया के 94 वर्षीय पीएम महातिर मोहम्मद ने सभी को चौंकाते हुए सोमवार को इस्तीफा दे दिया. महातिर के इस फैसले के बाद मलेशिया में राजनीतिक अस्थिरता पैदा हो गई है और तमाम राजनीतिक पार्टियां नई सरकार के गठन की कोशिश में जुट गई हैं.
पाकिस्तान के दोस्त महातिर ने क्यों अचानक दिया इस्तीफा, मजबूरी या चाल?
  • 2/13
लेकिन सवाल ये उठता है कि पाकिस्तान के दोस्त और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जमकर आलोचना करने वाले महातिर ने क्या किसी मजबूरी में पद छोड़ा या फिर इस फैसले के पीछे कोई बड़ी योजना थी?
पाकिस्तान के दोस्त महातिर ने क्यों अचानक दिया इस्तीफा, मजबूरी या चाल?
  • 3/13
महातिर के इस्तीफे के लिए काफी लंबे वक्त से भूमिका तैयार हो रही थी. बता दें कि मलेशिया के राजनीतिक दलों के गठबंधन पकतान हरप्पन ने 2018 के चुनाव में आश्चर्यजनक रूप से मलेशिया में 61 सालों से राज कर रही पार्टी को हरा दिया था.
पाकिस्तान के दोस्त महातिर ने क्यों अचानक दिया इस्तीफा, मजबूरी या चाल?
  • 4/13
हालांकि, महातिर के इस्तीफा सौंपने के बाद मलेशिया के सुल्तान ने उन्हें अंतरिम प्रधानमंत्री नियुक्त कर दिया है. विश्लेषकों का कहना है कि ये फैसला महातिर को मलेशिया के राजनीतिक भविष्य का किंगमेकर बनाने के लिए किया गया है. जब तक नए प्रधानमंत्री और नई कैबिनेट की नियुक्ति नहीं हो जाती है, अंतरिम प्रधानमंत्री रहते हुए महातिर देश के प्रशासनिक मामलों की जिम्मेदारी देखते रहेंगे.
पाकिस्तान के दोस्त महातिर ने क्यों अचानक दिया इस्तीफा, मजबूरी या चाल?
  • 5/13
तस्मानिया यूनिवर्सिटी में मलेशिया राजनीति के विशेषज्ञ जेम्स चिन ने एक इंटरव्यू में कहा, मैं अब भी ये शर्त लगा सकता हूं कि मलेशिया के अगले प्रधानमंत्री महातिर ही होंगे.
पाकिस्तान के दोस्त महातिर ने क्यों अचानक दिया इस्तीफा, मजबूरी या चाल?
  • 6/13
महातिर के इस्तीफे से एक सप्ताह पहले से ही ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि पकतन हरप्पन गठबंधन सत्ता से बाहर हो सकता है. स्थानीय मीडिया के मुताबिक, महातिर अब नए विपक्षी दलों के साथ मिलकर नई सरकार बनाने की कोशिश करेंगे.
पाकिस्तान के दोस्त महातिर ने क्यों अचानक दिया इस्तीफा, मजबूरी या चाल?
  • 7/13
कौन हैं महातिर?

महातिर मलेशिया की राजनीति के सबसे अनुभवी नेता हैं जो दो बार मलेशिया के प्रधानमंत्री भी रह चुके हैं. 1981 से 2003 के बीच भी महातिर ने बैरिसन नैशनल गठबंधन की सरकार में प्रधानमंत्री का पद संभाला था.
पाकिस्तान के दोस्त महातिर ने क्यों अचानक दिया इस्तीफा, मजबूरी या चाल?
  • 8/13
94 वर्षीय महातिर ने रिटायरमेंट लेते उससे पहले ही उन्होंने अपनी एक नई पार्टी बना ली और 2018 का आम चुनाव लड़ने के लिए कुछ पुराने विरोधियों के साथ हाथ मिला लिया. महातिर व पकतान हरप्पन गठबंधन ने बैरिसन नैशनल को चुनाव में हरा दिया. ये जीत ऐतिहासिक थी क्योंकि 1957 में आजादी के बाद पहली बार मलेशिया की सरकार में बदलाव हुआ था.
पाकिस्तान के दोस्त महातिर ने क्यों अचानक दिया इस्तीफा, मजबूरी या चाल?
  • 9/13
महातिर ने इस्तीफे के फैसले की वजह तो नहीं बताई है लेकिन विश्लेषकों का कहना है कि इसके पीछे उत्तराधिकारी का मुद्दा ही है. 2018 के चुनाव के दौरान महातिर ने अपने गठबंधन के सहयोगी अनवर इब्राहिम से वादा किया था कि उनके बाद वही प्रधानमंत्री होंगे. तमाम मीडिया रिपोर्ट्स में ये दावा किया जा रहा है कि 94 वर्षीय महातिर पर अनवर इब्राहिम के समर्थकों द्वारा सत्ता स्थानांतरण की समयसीमा तय करने का दबाव बढ़ता जा रहा था.
पाकिस्तान के दोस्त महातिर ने क्यों अचानक दिया इस्तीफा, मजबूरी या चाल?
  • 10/13
लेकिन महातिर सत्ता सौंपने के वादे के सवाल को यह कहकर टालते रहे कि इस्तीफा देने से पहले सरकार के कर्ज को घटाने और देश को सही दिशा में ले जाने के लिए उन्हें थोड़े वक्त की जरूरत है. हालांकि, महातिर कुर्सी छोड़ने और सत्ता स्थानांतरण की तारीख को टालते रहे जिससे तमाम विश्लेषकों और निवेशकों को मलेशिया के भविष्य की चिंता सताने लगी थी.
पाकिस्तान के दोस्त महातिर ने क्यों अचानक दिया इस्तीफा, मजबूरी या चाल?
  • 11/13
स्थानीय अखबार 'द स्टार' के मुताबिक, पिछले शुक्रवार गठबंधन दल पकतान हरप्पन के नेताओं ने उत्तराधिकार के मुद्दे पर चर्चा के लिए बैठक बुलाई लेकिन महातिर ने एकतरफा फैसला सुनाते हिए इस्तीफा देने का ऐलान कर दिया.
पाकिस्तान के दोस्त महातिर ने क्यों अचानक दिया इस्तीफा, मजबूरी या चाल?
  • 12/13
महातिर के इस्तीफे के बाद ये कयास और तेज हो गए हैं कि महातिर गठबंधन से अपनी पार्टी को निकालने के बाद दूसरे विपक्षी दलों को अपने साथ लाएंगे. इसमें वे पार्टियां भी शामिल हो सकती हैं जिन्हें 2018 में हराकर वह सत्ता में आए थे.
पाकिस्तान के दोस्त महातिर ने क्यों अचानक दिया इस्तीफा, मजबूरी या चाल?
  • 13/13
अब आगे क्या होगा?
फिलहाल, पकतान हरप्पन गठबंधन ने संसद में अपना बहुमत खो दिया है. सोमवार को महातिर के इस्तीफे से पहले चार पार्टियों वाले इस गठबंधन के पास 222 संसदीय सीटों में से 129 सीटें थीं. महातिर की पार्टी प्रबूमि बरसेतु मलेशिया के पास 26 सीटें थीं. महातिर और तमाम सासंदों के अलग होने के बाद गठबंधन के पास 92 सीटें ही बची हैं. सरकार बनाने के लिए गठबंधन को 112 के आंकड़े को छूना होगा.