scorecardresearch
 

स्टेशन पर टांगा RESUME, 3 घंटे में युवक को मिल गई नौकरी

लंदन के 24 वर्षीय हैदर मलिक को कोरोना काल के दौरान नौकरी नहीं मिल रही थी. उसने जॉब ढ़ूढने का एक नायाब तरीका खोजा. ट्रेन स्टेशन पर पॉप-अप स्टैंड लगाने के कुछ घंटों में ही उसको नौकरी मिल गई.

हैदर मलिक हैदर मलिक

लगातार इंटरव्यू देने के बाद जब एक शख्स को नौकरी नहीं मिली तो उसने जॉब ढ़ूढने का एक नायाब तरीका खोजा. ट्रेन स्टेशन पर पॉप-अप स्टैंड लगाने के कुछ घंटों में ही उसको नौकरी मिल गई. द मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक, लंदन के 24 वर्षीय हैदर मलिक को कोरोना काल के दौरान नौकरी नहीं मिल रही थी.

मिडिलसेक्स यूनिवर्सिटी से बैंकिंग और फाइनेंस में फर्स्ट डिविजन पाने के बाद भी हैदर मलिक नौकरी के लिए भटक रहा था. वह लगातार जूम पर इंटरव्यू दे रहा था, लेकिन सफलता नहीं मिली. इसके बाद उसने नौकरी पाने का नायाब तरीका सोचा. उसने एक बोर्ड पर सारी जानकारी लिखते हुए अपनी सीवी और लिंक्डइन प्रोफाइल का क्यूआर कोड शेयर किया.

हैदर मलिक का कहना है कि इसके लिए वह अपने पिता महमूद मलिक से प्रेरित हुआ, अपनी जवानी के समय ही पाकिस्तान से ब्रिटेन आए थे और यहां कैब चलाते थे. स्टेशन के पास बोर्ड लगाने के बाद हैदर मलिक ने कहा कि पहले पांच मिनट या 10 मिनट मुझे घबराहट महसूस हुई क्योंकि मैं वहां खाली हाथ खड़ा था.

हैदर मलिक ने कहा, 'मेरे बैग में मेरा सीवी थे, मैं वहां खाली हाथ खड़ा था और लोगों से बात करने की कोशिश कर रहा था, मैंने अपना सीवी हाथ में लिया और लोगों को सिर्फ गुड मॉर्निंग बोलने लगा, इस दौरान बहुत से लोगों ने मुझे अपने कार्ड दिए, उन्होंने मुझे अपने फोन नंबर दिए और मुझसे बात करने लगे, किसी ने मेरी फोटो वायरल कर दी.'

इसका असर यह हुआ है कि हैदर मलिक को लगातार कॉल आते रहे. फिर इंटरव्यू के लिए कॉल आ गया. हैदर ने बताया कि मुझे विभाग के निदेशक का सुबह 9.30 बजे एक टेक्स्ट संदेश मिला, जिसमें कहा गया था कि 10.30 बजे साक्षात्कार के लिए आओ, मेरी कार पार्किंग में थी, मैंने बोर्ड लिया और दौड़ पड़ा. दूसरे राउंड के इंटरव्यू के बाद नौकरी मिल गई.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×