scorecardresearch
 

बिल्‍ली वाली बिरयानी चखिए या बिल्‍ली का मांस खरीदिए... कीमत है 100 रुपए किलो!

अगली बार जब भी आप चेन्‍नई जाएं तो वहां सड़क किनारे बिक रही बिरयानी को चखने से पहले एक बार सोच लीजिएगा क्‍योंकि बाद में आपको इस फैसले पर पछताना पड़ सकता है...जानिए क्‍यों

बिल्‍ली का मांस बिल्‍ली का मांस

बिरयानी का नाम लेते ही मुंह में पानी आ जाता है पर कोई आपको ऐसी बिरयानी परोस दे, जिसमें बिल्‍ली का मांस हो क्‍या तो आप उसे उतना ही स्‍वाद लेकर खाएंगे जितना अभी तक खाते रहे हैं.

जी हां, ऐसी बिरयानी परोसी जा रही है चेन्‍नई में. रिपोर्ट्स के मुताबिक चेन्‍नई के पल्‍लवरम में बहुतायत में यही बिरयानी बेची और खाई जा रही है.

कहीं गोमांस से तो नहीं बनी बिरयानी? दुकानों से सैंपल लेने में जुटी हरियाणा पुलिस

पीपल फॉर एनिमल्‍स राइट्स यानी PFA ने स्‍थानीय पुलिस और स्‍वयंसेवकों के साथ मिलकर ऐसी 16 बिल्लियों को इस इलाके से मुक्‍त कराया है, जिन्‍हें बंधक बनाकर रखा गया था. इन बिल्लियों की हालत काफी खराब थी. ये डि-हाइड्रेशन से पीडि़त थीं और इन्‍हें एक सप्‍ताह से अधिक समय से बिना भोजन और पानी के कैद रखा गया था. इनमें से अधिकतर बीमार थीं और इन्‍हें अब सामान्‍य होने में लंबा समय लगेगा. कुछ रिपोर्टस्‍ा में यह भी कहा गया हे कि इन बिल्ल‍ियों को खौलते पानी में जिंदा डालकर उबाला जाता है और फिर इनके मांस का इस्‍तेमाल बिरयानी में होता है.

जहां जाओ बिरयानी का एक नया स्वाद पाओ...

द न्‍यूज मिनट वेबसाइट के मुताबिक छापेमारी के दौरान साथ रहे एक कार्यकर्ता ने बताया, 'हमने देखा कि कोने में बैठकर एक आदमी मीट काट रहा था. उसने बताया कि ये मीट बिल्‍ली का इसे 100 रुपए किलो बेचा जाता है. यह सस्‍ता है इसलिए खूब बिकता है.'

इस मामले में पुलिस को शिकायत दर्ज कराई गई है. पर वहां के पुलिस अधिकारी कहते हैं कि यह इस तरह का कोई पहला मामला नहीं है.

बता दें कि न्‍यू इंडियन एक्‍स्‍ाप्रेस ने 2010 में एक रिपोर्ट में कहा था कि नरिकुरवर समुदाय में बिल्‍ली के मांस से बनी बिरयानी शादी के मौके पर बनाई जाती है. इसके अलावा बिल्‍ली के मांस से बना सूप, बेटे के जन्‍म पर बनता है.लोग कहते हैं कि चूंकि बिल्‍ली का मांस सस्‍ता होता है इसलिए लोग इसे खाते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×