scorecardresearch
 

प्रतिभा पाटिल ने 35 लोगों की फांसी की सजा उम्रकैद में तब्‍दील की

देश के अगले राष्ट्रपति चुनाव से पहले मौजूदा राष्ट्रपति प्रतिभा देवीसिंह पाटिल ने बड़ा फैसला लिया. उन्‍होंने मृत्यु की सजा के हकदार 35 दोषियों की सजा को उम्रकैद में बदल दिया.

फाइल फोटो: प्रतिभा प‍ाटिल फाइल फोटो: प्रतिभा प‍ाटिल

देश के अगले राष्ट्रपति चुनाव से पहले मौजूदा राष्ट्रपति प्रतिभा देवीसिंह पाटिल ने बड़ा फैसला लिया. उन्‍होंने मृत्यु की सजा के हकदार 35 दोषियों की सजा को उम्रकैद में बदल दिया. हैरान करने वाली बात यह है कि राष्ट्रपति से मौत की सजा में राहत पाने वालों की लिस्ट में एक ऐसा भी नाम है, जो 5 साल पहले मर चुका है.

एक अंग्रेजी अखबार के हवाले से मिली खबर के मुताबिक, 16 साल की लड़की से बलात्कार और हत्या के दोषी महाराष्ट्र के वीड जिले के रहने वाले बंदू बाबूराव तिड़के को राष्ट्रपति ने सजा में राहत दी. 2 जून को जारी हुई लिस्ट में उसकी सजा उम्रकैद में तब्दील कर दी गई, लेकिन जानकारी मिली है कि वो 2007 में मर चुका था.

तिड़के की मौत 18 अक्टूबर 2007 को हो गई थी. सवाल उठता है कि राष्ट्रपति भवन को जहां से भी लिस्ट भेजी गई, क्या वहां इतनी लापरवाही से काम होता है. आखिर इतनी बड़ी चूक कैसे हो सकती है कि जो करीब 5 साल पहले मर चुका है, उसकी मौत की सजा को उम्रकैद में तब्दील कर दी गई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें