scorecardresearch
 

लक्ष्मण ने फिर संभाला किला, भारत मजबूत स्थिति में

संकटमोचक वीवीएस लक्ष्मण के लगातार दूसरे अर्धशतक से भारत ने वेस्टइंडीज पर अच्छी बढ़त हासिल करके बारिश से प्रभावित दूसरे टेस्ट क्रिकेट मैच में अपनी स्थिति मजबूत कर ली.

संकटमोचक वीवीएस लक्ष्मण के लगातार दूसरे अर्धशतक से भारत ने वेस्टइंडीज पर अच्छी बढ़त हासिल करके बारिश से प्रभावित दूसरे टेस्ट क्रिकेट मैच में अपनी स्थिति मजबूत कर ली.

पहली पारी में 85 रन की महत्वपूर्ण पारी खेलने वाले लक्ष्मण दूसरी पारी में 72 रन पर खेल रहे हैं. उनके अलावा राहुल द्रविड़ ने 55 और अभिनव मुकुंद ने 48 रन का योगदान दिया जिससे भारत ने चौथे दिन का खेल समाप्त होने तक अपनी दूसरी पारी में तीन विकेट 229 रन बनाये.

इस तरह से उसने अब कुल 240 रन की बढ़त हासिल कर ली है. लक्ष्मण ने अपनी पारी के दौरान द्रविड़ के साथ तीसरे विकेट के लिये 63 रन की साझेदारी की जबकि युवा विराट कोहली (नाबाद 26) के साथ वह चौथे विकेट के लिये 75 रन जोड़ चुके हैं.

लक्ष्मण ने अभी तक अपनी पारी में 171 गेंद का सामना करके छह चौके लगाये हैं. बारिश के कारण सुबह खेल एक घंटा देरी से शुरू हुआ. भारत ने बिना किसी नुकसान के 23 रन से अपनी पारी आगे बढ़ायी लेकिन दिन की 13वीं गेंद पर ही उसने विजय का विकेट गंवा दिया था.

इसके बाद द्रविड़ और मुकुंद ने दूसरे विकेट के लिये 63 रन की साझेदारी की. परिस्थितियां बल्लेबाजी के अनुकूल नहीं थी. पिच में उछाल थी जबकि आउटफील्ड भी काफी धीमी थी. ऐसे में भारतीयों ने भी धीमी गति से रन बनाये. भारत ने पहले सत्र में लगभग 16 ओवर में 39 रन दूसरे सत्र में 35 ओवर में 81 रन और तीसरे सत्र में 33 ओवर में 86 रन बनाये. उसने तीनों सत्र में एक-एक विकेट गंवाया.

द्रविड़ भी जब दस रन पर खेल रहे थे तब उन्हें संदेह का लाभ मिला. उन्होंने कैरेबियाई कप्तान डेरेन सैमी की गेंद फ्लिक की लेकिन वह मिडविकेट पर चली गयी. एड्रियन बराथ ने आगे गिरकर उसे कैच में तब्दील कर दिया लेकिन यह सही कैच था या नहीं इसके लिये तीसरे अंपायर की मदद ली गयी.

तीसरा अंपायर भी किसी फैसले पर नहीं पहुंच पाया और लंबी चर्चा के बाद आखिर में फैसला द्रविड़ के पक्ष में गया. दूसरे छोर पर मुकुंद ने अच्छी पारी खेली लेकिन भाग्य उनके साथ नहीं था. मुकुंद को जब अपने पहले टेस्ट अर्धशतक के लिये केवल दो रन चाहिए थे तभी फिदेल एडवर्डस का बाउंसर उनकी धर्यपूर्ण पारी को समाप्त कर गया.

मुकुंद ने तेजी से उठती गेंद को रोकने की कोशिश की लेकिन वह उनके दस्तानों को चूमती हुई कार्लटन बॉ के दस्तानों में चली गयी. उन्होंने अपनी पारी में 81 गेंद खेली और छह चौके लगाये. द्रविड़ और लक्ष्मण की अनुभवी जोड़ी दबदबे के साथ बल्लेबाजी करने में नाकाम रही. रामपाल और लेग स्पिनर देबेंद्र बिशू ने इन दोनों को कुछ अवसरों पर परेशान भी किया. इन दोनों ने तीसरे विकेट के लिये 65 रन की साझेदारी की लेकिन इसके उन्होंने 30 ओवर खर्च किये.

द्रविड़ इसके बाद अधिक देर तक नहीं टिक पाये. उन्होंने एडवर्डस की उठती गेंद पर कट शाट खेला लेकिन उनकी टाइमिंग सही नहीं थी और गेंद बल्ले का किनारा लेकर स्लिप में रामनरेश सरवन के पास चली गयी. द्रविड़ ने अपनी पारी में 171 गेंद खेली तथा तीन चौके लगाये. एडवर्डस ने अब तक 58 रन देकर दो विकेट लिये हैं.

लक्ष्मण जब 31 रन पर थे तब बिशू की गेंद पर डेरेन ब्रावो ने मिडविकेट पर उनका कैच छोड़ा. अगले ओवर में भाग्य ने कोहली का भी साथ दिया. एडवर्डस का बाउंसर उनके बल्ले के हत्थे से लगकर शार्ट लेग पर बराथ के थोड़े आगे गिरा.

कोहली ने अगली शार्ट पिच गेंद को मिडविकेट पर छह रन के लिये भेजकर 19वीं गेंद पर अपना खाता खोला. लक्ष्मण ने जल्द ही मैच का अपना दूसरा अर्धशतक पूरा किया जो उनका टेस्ट मैचों में 51वां अर्धशतक भी है. वह जब 69 रन पर थे तब सैमी ने अपनी ही गेंद पर उनका कैच छोड़ा.

कोहली ने भी अपने सीनियर खिलाड़ी की तरह देखो और इंतजार करो की रणनीति अपनायी और धर्य से रन बटोरे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें